priya

priya

सोशल मीडिया पर रातों-रात स्टार बनी प्रिया प्रकाश वारियर के खिलाफ दर्ज FIR पर सुप्रीम कोर्ट ने रोक लगा दी है. साथ ही शीर्ष अदालत ने इस मामले में अब कोई नई FIR दर्ज करने पर भी रोक लगा दी है.

दरअसल, प्रिया प्रकाश और निर्देशक उमर अब्दुल वहाब के खिलाफ मलयालम फिल्म ‘उरु आदर लव’ के गाने ‘मानिक्य मलाराया पूवी’ के जरिए इस्लाम धर्म के पैगंबर हजरत मुहम्मद (सल्ल.) के अपमान करने के आरोपों को लेकर दर्ज की गई है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस गाने में पैगम्बर हजरत मुहम्मद (सल्ल.) और उनकी पहली पत्नी हजरत खदीजा (रजि.) का जिक्र है. इस मामले में मुंबई स्थित सुन्नी सूफी संगठन रजा एकेडमी और हैदरबाद में मुस्लिम संगठनों ने FIR दर्ज कराई है. FIR में कहा गया कि गाने में पैगम्बर मोहम्मद (सल्ल.) की पत्नी का जिक्र जिस तरह किया गया है, वो आपत्तिजनक है.

शिकायतकर्ताओं का कहना है कि ‘गाने की लेरिक्स से मुस्लिम समुदाय की भावनाओं को चोट पहुंची है. उन्होंने कहा, इस गाने को मूवी से हटाया जाए या फिर शब्दों को बदला जाए. हमें एक्टर्स को लेकर कोई शिकायत नहीं है.’  आप को बता दें कि ये गीत पीएमए जब्बार द्वारा 1978 में लिखा गया था, जिसे पहली बार थलासेरी रफीक ने पैगम्बर और उनकी पत्नी की प्रशंसा में गाया गया था.

याचिकाकर्ताओं ने कहा है कि युवा अभिनेत्री और उसके परिवार के जीवन के लिए खतरे को देखते हुए FIR और आपराधिक शिकायतें अनुच्छेद 21 के तहत जीने के अधिकार का उल्लंघन है. ये अनुच्छेद 19(1) (ए) और 19(1) (जी) के तहत अभिव्यक्ति की आजादी का हनन भी है.