अंतरराष्‍ट्रीय पैरा एथलीट सुवर्णा राज को राष्ट्रीय चैंपियनशिप से बाहर कर दिया गया है. दरअसल उन्होने पंचकूला में आयोजित 18वीं नेशनल पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप में बदइंतजामी के खिलाफ आवाज उठाई थी.

ऐसे में अब सुवर्णा राज चेतावनी देते हुए कहा कि अगर खिलाड़ियों के साथ इस तरह का बर्ताव होता रहा तो वो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आवास के सामने आत्महत्या कर लेंगी.

सुवर्णा ने बताया कि वह दिल्ली से 18वीं नेशनल पैरा एथलेटिक्स चैंपियनशिप गेम्स में हिस्सा लेने के लिए पंचकूला पहुंची थी, लेकिन जहां उनके ठहरने की व्यवस्था की गई है, वहां के शौचालय की व्यवस्था ठीक नहीं थी. इस पर सुवर्णा उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ट्वीट किया जिस पर एसोसिएशन चैंपियनशिप से बाहर का रास्ता दिखा दिया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

सुवर्णा राज

सुवर्णा राज ने प्रधानमंत्री को किए अपने ट्वीट में कहा कि उन को दिव्यांग कहने से कोई भला नहीं होने वाला क्योंकि जमीन पर बुनियादी सुविधाओं की कमी है.

उन्होंने ‘राइट्स ऑफ पर्सन विद डिसेबिलिटी बिल 2016’ का उदाहरण देते हुए कहा कि दिव्यांग खिलाड़ियों के साथ सौतेला व्यवहार किया जाता है और उनको जमीन पर रेंगने वाले कीड़े-मकोड़ों की तरह देखा जाता है. इन खिलाड़ियों के लिए ना तो पर्याप्त शौचालय हैं और ना ही रहने की सुविधाएं नियमों के अनुकूल हैं.

Loading...