बॉलीवुड के किंग खान ने मुंबई स्थित अपने आवास पर जन्माष्टमी के पर्व बड़ी धूमधाम से मनाया था। इस पर यूपी के देवबंदी उलेमाओं ने कड़ी आपत्ति जताते हुए शाहरुख के इस कृत्य को हराम और नाजायज करार दिया। उन्होंने कहा कि इस्लाम में दूसरे धर्म का उत्सव मनाने की मनाही है।

शाहरुख ने हाल ही में जन्माष्टमी के त्यौहार पर अपने मुंबई स्थित आवास पर इस उत्सव के दौरान दही हांडी का आयोजन किया। जिसमें उन्होंने अपने बेटे और पत्नी गौरी खान के साथ दही हांडी फोड़ी। शाहरुख खान हर धर्म के त्यौहार धूमधाम से मनाते हैं।

फतवा ऑन मोबाइल सर्विस के चेयरमैन मुफ्ती अरशद फारूकी ने  कहा कि वैसे तो फिल्मी कलाकार का कोई धर्म नहीं होता, लेकिन शाहरुख खान एक सिलेब्रिटी हैं। इसलिए उनको ध्यान रखना चाहिए कि वे किस धर्म के त्योहार को किस तरह से मना रहे हैं। किसी के त्योहार में शरीक शरीक होना अलग बात है, लेकिन गैर-इस्लामिक त्योहार को अपने घर पर मनाना और उस धर्म की परंपरा का आयोजन करना इस्लाम में सही नहीं है।

जामिया हुसैनिया के वरिष्ठ उस्ताद मुफ्ती तारिक कासमी का कहना है कि इस्लाम में दूसरे धर्म के उत्सव मनाने की सख्त मनाही है। इसके अलावा देवबंद के उलेमा मौलाना नदीम उल वाजदी ने कहा कि इस्लाम में दूसरे धर्म के उत्सव मनाने की मनाही है। एक मुसलमान का हिंदू पर्व मनाना और उसमें शरीक होना शरीयत के अनुसार गलत है। इस्लाम इस बात की इजाजत नहीं देता कि कोई भी मुसलमान अपने धर पर गैर-इस्लामिक त्योहार मनाए।

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें