ramg

ramg

साउथ और बॉलीवुड के जाने-माने डायरेक्टर रामगोपाल वर्मा ने बॉलीवुड अभिनेत्री श्रीदेवी के फैंस के लिए खुला खत लिखा. जिसमे उन्होंने श्रीदेवी की निजी जिंदगी को लेकर बड़े खुलासे किये.

‘माय लव लैटर टू श्रीदेवी फैन्स’ के शीर्षक से लिखे फेसबुक पर इस ख़त में उन्होंने कहा कि जब से श्रीदेवी की शादी बोनी कपूर से हुई. वह कभी खुश नहीं रह पाई. उन्होंने लिखा, “कई लोगों के लिए श्रीदेवी की जिंदगी परफेक्ट थी. खूबसूरत चेहरा, गजब का टैलेंट, दो बेटियों के साथ अच्छा परिवार. बाहर से सबकुछ ऐसा ही नजर आता था…लेकिन क्या श्रीदेवी बेहद खुश इंसान थीं और वे क्या बेहद खुशहाल जिंदगी जी रही थीं?” उनका कहना है कि हकीकत इससे उलट थी.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

राम गोपाल वर्मा ने लिखा है, “मैं उनकी जिंदगी के बारे में तब से जानता था जब पहली बार उनसे मिला था. मैंने अपनी आंखों से देखा है कि जब तक उनके पिता जिंदा थे, उनकी जिंदगी आकाश में उड़ते परिंदे जैसी थी और उसके बाद उनकी मां की हद से ज्यादा केयर ने उनकी जिंदगी को पिंजरे में कैद पक्षी जैसा बना दिया था. उन दिनों एक्टरों को अधिकतर पैसा ब्लैक मनी में दिया जाता था और इनकम टैक्स के छापों के डर की वजह से उनके पिता ने सारा पैसा अपने भरोसेमंद दोस्तो और रिश्तेदारों के पास जमा करा रखा था. लेकिन पिता की मौत के बाद सब ने उन्हें धोखा दे दिया. लेकिन उनकी लापरवाह मम्मी ने कई गलत फैसलों ने और हालत खराब कर दी. जब बोनी कपूर उनकी जिंदगी में आए तो इन सब वजहों से उनके आर्थिक हालात काफी खराब थे. बोनी भी कर्ज के नीचे दबे थे, और वे सिर्फ उनका दुख ही बांट सकते थे.”

Posted by RGV on 26 ಫೆಬ್ರವರಿ 2018

वर्मा ने आगे लिखा, “मां की मौत के बाद श्रीदेवी की छोटी बहन ने पड़ोसी के लड़के से शादी कर ली. मां ने सारी प्रॉपर्टी श्रीदेवी के नाम कर दी, लेकिन उनकी बहन ने प्रॉपर्टी में आधा हिस्सा मांगा और उन पर केस कर दिया. बहन का दावा था कि मां ने दस्तावेजों पर दस्तखत किए तब वह अपने होश में नहीं थी. दरअसल, उस वक्त उनकी ब्रेन सर्जरी हुई थी. ऐसे में वह महिला जो पूरी दुनिया की चहेती थी हकीकत में अपनी जिंदगी में अकेली थी. उसका बोनी कपूर के सिवाय और कोई नहीं था.”

उन्होंने लिखा, ‘श्रीदेवी दरअसल महिला के शरीर में जकड़े एक बच्चे की तरह थीं. वह एक व्यक्ति के तौर पर काफी मासूम थीं, लेकिन अपने बुरे अनुभवों के चलते वह काफी वहमी भी हो गई थीं. उनके मामले में यह कहना चाहता हूं कि आखिरकार अब जाकर उन्हें अंतिम शांति मिलेगी, जैसी उन्हें जीते हुए कभी नहीं मिली.

रामू ने अपने इस लेटर में लिखा, ‘बोनी की मां ने श्रीदेवी को दुनिया के सामने घर तोड़ने वाली औरत के तौर पर दिखाया था और उन्हें बोनी पहली पत्नी के साथ गलत करने के लिए एक पांच सितारा होटल की लौबी में सब के सामने पेट में घूंसा मारा था.’

Loading...