प्यारे मियां की कथित फर्जी वेलफेयर सोसाइटी के मेंबर होने को लेकर दिग्गज अभिनेता रजा मुराद को पुलिस ने समन भेजा। जिसके बाद श्यामला हिल्स थाने में उनसे पूछताछ भी की गई। पुलिस ने उनके बयान दर्ज किए हैं। रजा मुराद ने प्यारे मियां से संबंध होने से इंकार कर दिया।

बात दें कि एक छोटे अखबार के मालिक और संपादक और श्यामला हिल्स के निवासी प्यारे मिया को भोपाल और इंदौर में छह नाबालिग लड़कियों के साथ बलात्कार करने और धोखाधड़ी करने के आरोप में श्रीनगर के होटल से हाल ही में गिरफ्तार किया गया था। वह फिलहाल जेल में हैं।

रजा मुराद ने कहा कि मेरी प्यारे मियां साहब से कभी मुलाकात नहीं हुई है और न उनसे मेरा कोई संबंध रहा है। उन्होंने कहा कि उसने सोसायटी में मेरे फर्जी साइन किए हैं, मैं सोसायटी का सदस्य नहीं हूं। मेरा फ्लैट जरूर है लेकिन उसमें रहता नहीं हूं।  मैंने प्यारे मियां पर कार्रवाई के लिए पुलिस से कहा है।

पूछताछ के बाद रजा मुराद ने कहा, “मैं सिर्फ लेक व्यू एन्क्लेव वेलफेयर हाउसिंग सोसायटी का मेंबर हूं, जिसे मैं हर साल सब्सक्रिप्शन देता हूं। जो सोसायटी के ड्यूज होते हैं। अगर मैं प्यारे मियां की सोसायटी का मेंबर होता तो ड्यू मैं वहां नहीं देता, मैं उन्हीं को देता। प्यारे मियां से मेरा कोई लेना देना नहीं है। मैंने अभी अपने सिग्नेचर्स देखे, जो उर्दू में किए गए हैं। थोड़ी बहुत मुझे भी अंग्रेजी आती है और वो जो दस्तखत किए गए हैं, उसमें केवल रजा लिखा हुआ है। अधूरा सिग्नेचर है।”

श्याम हिल्स पुलिस स्टेशन के प्रभारी तरुण राठी ने कहा कि प्यारे मियां ने ई-ब्लॉक लेकव्यू एन्क्लेव वेलफेयर सोसाइटी नाम से एक फर्जी सोसायटी बनाई थी और वेलफेयर के नाम पर अलग-अलग लोगों से पैसा इकट्ठा करके धोखाधड़ी की थी। उन्होंने आगे कहा, “जांच के दौरान, हमने पाया कि उक्त सोसायटी में आठ सदस्य थे, जिनमें रज़ा मुराद और मियां के परिवार के तीन सदस्य शामिल थे। हमने रजा मुराद को बयान दर्ज करने के लिए बुलाया।

मुराद ने अपने जाली हस्ताक्षर का इस्तेमाल करने के लिए मियां के खिलाफ बुधवार को पुलिस में शिकायत दर्ज कराई।” प्यारे मियां ने एयरटेल कंपनी से प्यारे ने 60 लाख नहीं बल्कि सवा करोड़ रुपए हड़पे थे।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano