अनुराग कश्यप के निर्देशन बानी फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ 17 जून को बड़े परदे पर नज़र आएगी, लेकिन बॉम्बे हाई कोर्ट के परिमाण के बाद भी इसकी मुश्किलें कम होती नज़र नहीं आ रही हैं. पंजाब के एक एनजीओ ने इस फिल्म की रिलीज़ को रोकने के लिए सुप्रीम कोर्ट पहुंच गयी.

एनजीओ का कहना है कि अब सुप्रीम कोर्ट तय करेगा. एनजीओ का कहना है की यह राज्य को एक ख़राब दिशा में प्रदर्शित कर रही हैं.आपको बता दे इससे पहले बॉम्बे हाई कोर्ट ने फिल्म ‘उड़ता पंजाब’ को एक कट के साथ पास कर दिया था जबकि सेंसर बोर्ड ने इस फिल्म के टाइटल सहित 89 सीन्स पर आपत्ति जताई थी, जिसको ख़ारिज करते हुए कोर्ट ने यह फैसला सुनाया.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

मानवाधिकार जागरूकता एसोसिएशन ने कोर्ट में मांग की थी कि याचिका कि सुनवाई जल्द से जल्द करे जिसके बाद कोर्ट ने इस याचिका कि सुनवाई के लिए 16 जून तय कि है, फिल्म के रिलीज होने के एक दिन पहले.

यह फिल्म पंजाब के लोगो में ड्रग्स की लत के ऊपर फिल्माई गयी हैं, जिसको देखते हुए पंजाब के एक विश्वविद्यालय, गुरु नानक देव यूनिवर्सिटी ने इसके ऊपर सर्वे किया जिसमे यह सामने आया है की हकीकत में पंजाब में लघभग 70 % नौजवान ड्रग्स के addicted हैं.

Web-Title: NGO moves Supreme court Udta Panjab

Key-Words: Udta Panjab, Supreme court, NGO, Anurag Kashyap, Film, ban