असहिष्णुता मुद्दे को लेकर कई लोगों की नाराजगी झेल चुके अनुपम खेर ने कहा कि उन्हें भी अपने विचार प्रकट करने की स्वतंंत्रता है. उन्होंने कहा ‘मेरे विचारों से कुछ लोग सहमत होते हैं और कुछ नहीं. इसका मतलब यह नहीं है कि मैं अपने विचार प्रकट ना करूं.

अनुपम खेर ने आगे कहा, हम लोग ऐसे उद्योग में है, जो आवश्यकताओं पर आधारित है. अगर आपको कल मेरी जरुरत पड़ती है तो मैं क्या कहता हूं इसका आप पर कोई फ र्क नहीं पड़ता क्योंकि आपको मेरी जरुरत है. अगर आपको मेरी जरुरत नहीं है तो भी आपको मेरी बातों से फ र्क नहीं पड़ता.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि मैंने यह पाया है कि यह जानना सबसे जरुरी है कि मैं क्या हूं. मैं जानता हूं कि अपनी राय से मैंने कुछ लोगों को नाराज किया है कुछ ऐसे लोग हैं जो खुश नहीं हैं लेकिन इससे कोई फ र्क नहीं पड़ता. उन्होंने कहा कि अभिनय मेरे जीवन का अंग है, इसके बिना मेरा जीवन नहीं है और इसलिए देश का एक नागरिक होने के नाते उनके पास विचार हैं और वह उसे प्रस्तुत करने में कभी नहीं हिचकेंगे.

गौरतलब रहें कि पिछले वर्ष शाहरुख खान और आमिर खान जैसे एक्टर्स ने कथित तौर पर बढ़ती असहिष्णुता को लेकर अपनी चिंता जाहिर की थी, जिसे अनुपम खेर ने खारिज करते हुए दिल्ली में सहिष्णुता मार्च का नेतत्व किया था.

Loading...