बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के अनर्गल बयान अब उनके लिए बड़ी परेशानी का सबब बन सकते है। दरअसल, कर्नाटक में एफआईर दर्ज होने के बाद अब मुंबई की बांद्रा कोर्ट ने कंगना के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया है। कंगना पर ट्वीट और इंटरव्यू के जरिए सांप्रदायिक नफरत फैलाने का आरोप है।

याचिकाकर्ता मुन्ना वराली ने याचिका दायर कर आरोप लगाया कि कंगना ने ट्वीट और न्यूज़ पर दिए बयानों से हिन्दू कलाकार और मुस्लिम कलाकार में बाटने, सामाजिक द्वेष बढ़ाने का कार्य किया है। इस मामले में कंगना की बहन रंगोली को भी आरोपी है।

मजिस्ट्रेट जयदेव घुले ने अपने आदेश में कहा, अधिवक्ता को सुनने और साथ में पेश दस्तावेज़ों को देखने के बाद, प्रथम दृष्ट्या मुझे ये लगता है कि अभियुक्त ने संज्ञेय अपराध (कॉग्निज़ेबल ऑफेंस) किया है। कास्टिंग डायरेक्टर का काम करने वाले मुनव्वर अली ने कंगना पर आईपीसी की कई धाराओं के तहत मुक़दमा दर्ज करने की मांग की थी।

इस पूरे प्रकरण पर कंगना रनौत के वकील रिजवान सिद्दकी ने कहा, ‘मुझे उन ट्वीट्स को चेक करनी होगा जिनका उल्लेख कोर्ट में किया गया है। जिन ट्वीट्स के बारे में बात की गई है, हो सकता है कि उनकी व्याख्या गलत तरीके से की गई हो। मुल्ला का मतलब धार्मिक प्रमुख होता है. आदेश की प्रतिलिपि मिलने के बाद ही इस पर कुछ टिप्पणी कर सकूंगा।

वकील रिजवान ने कहा, ‘ऐसा कुछ नहीं है जिससे लगे कि वह सांप्रदायिक नफरत फैला रही हैं। मैं मुस्लिम हूं और पिछले 10 साल से कंगना के साथ जुड़ा हूं।’ उन्होंने कहा, ‘मैं उनके ट्वीट पर बोलने के लिए अधिकृत नहीं हूं। एक बार जब मुझे पूरी ऑर्डर कॉपी मिल जाएगी तो मैं इसके बारे में बोल सकूंगा।’

उल्लेखनीय है कि इससे पहले कृषि कानूनों (Farm Laws) का विरोध करने वाले किसानों को कथित तौर पर आतंकी बताने को लेकर कर्नाटक पुलिस ने तुमकुर जिले की अदालत के आदेश पर अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ संगीन धाराओं में एफ़आईआर दर्ज की है।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano