Saturday, June 12, 2021

 

 

 

सेंसर बोर्ड ने फिल्म ‘लिपिस्टिक अंडर माय बुरखा’ को किया बैन कहा, फिल्म अधिक महिला केन्द्रित

- Advertisement -
- Advertisement -

मुंबई | फिल्म ‘उडता पंजाब’ को लेकर सेंसर बोर्ड और बॉलीवुड के बीच मचा तूफ़ान शांत जरुर हो गया था लेकिन खत्म नही हुआ था. उम्मीद है यह तूफान एक बार फिर अपनी रफ़्तार पकड़ेगा. क्योकि सेंसर बोर्ड ने प्रकाश झा जैसे निर्माता-निर्देश की फिल्म को प्रमाण पत्र देने से इनकार कर दिया है. सेंसर बोर्ड के इस रवैये से आहत कई बॉलीवुड हस्तियों ने अपनी नाराजगी जताई है.

दरसल प्रकाश झा की फिल्म ‘लिपिस्टिक अंडर माय बुरखा’ को सेंसर बोर्ड ने प्रमाण पत्र देने से इनकार कर दिया है. इस फिल्म को कई अन्तराष्ट्रीय फिल्म फेस्टिवल में दिखाया जा चूका है जहाँ इसकी काफी तारीफ भी हुई है. लेकिन हमारे सेंसर बोर्ड बोर्ड को फिल्म में खूबिया कम और कमिया ज्यादा दिखाई दी. यही कारण है की सेंसर बोर्ड ने प्रकाश झा को चिट्ठी भेज प्रमाण पत्र न देने का कारण बताया.

सेंसर बोर्ड ने अपने पत्र में लिखा की ,’यह फिल्म कुछ ज्याद ही महिला केन्द्रित है और उनके जीवन से परे फैंटेसियों पर आधारित है. इसमें यौन द्रश्य , अपमानजनक शब्द और अश्लील ऑडियो की भरमार है. इसके अलावा फिल्म समाज के एक विशेष तबके के प्रति अधिक संवेदनशील है. इसलिए फिल्म को प्रमानिकरण के लिए अस्वीकृत किया जाता है’.

सेंसर बोर्ड के फैसले के फैसले पर हैरानी जताते हुए कई बॉलीवुड हस्तियों ने फिल्म के पक्ष में ट्वीट किया. अभिनेत्री रेणुका शहाणे ने ट्वीट किया की एक अवार्ड विनिंग फिल्म को बेवजह प्रमाण पत्र देने से मना कर दिया गया. इसके अलावा फिल्म की निर्देशक अलंकृत श्रीवास्तव लिखती है की यह महिलाओ के अधिकार पर हमला है. मालूम हो फिल्म एक छोटे से शहर की ऐसी चार महिलाओ की कहानी है जो आजादी चाहती है और समाज के बंधनों से मुक्त होना चाहती है. फिल्म में कोंकण सेन शर्मा मुख्य भूमिका में है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles