पूर्व भारतीय क्रिकेटर इरफान पठान 2004 के पाकिस्तान दौरे को लेकर बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि वह पाकिस्तान दौरे पर नहीं जाना चाहते थे। वजह का खुलासा करते हुए उन्होने कहा कि वह उस समय पाकिस्‍तान दौरे पर जाने के बजाय बड़ौदा के लिए रणजी ट्रॉफी मैच खेलना चाहते थे।

इरफान पठान ने सुरेश रैना से अपने एक इंटरव्यू में कहा,“मैं पाकिस्‍तान दौरे पर जाना नहीं चाहता था। हमारा रणजी ट्रॉफी में मुंबई से मैच होना था, मैंने शेट्टी सर से कहा कि मुंबई के खिलाफ मैच है और मैं अच्‍छे फॉर्म में हूं।

अगर मैं मुंबई के खिलाफ प्रदर्शन करूंगा तो मेरा नाम जरूर उछलेगा। लेकिन उन्‍होंने कहा, ‘नहीं, भारत , 14 साल में पहली बार पाकिस्‍तान का दौरा कर रहा है। तुम अंडर-19 में पहले खेल चुके हो, इसलिए तुम्‍हें जाना होगा। मैं बहुत निराश था, लेकिन किसको पता था कि मेरे लिए वहां क्‍या रखा था।”

View this post on Instagram

Those were the days ?. #friday #home #coronavirus

A post shared by Irfan Pathan (@irfanpathan_official) on

इरफान ने 2003 में अंडर-19 मुकाबले में बांग्लादेश के खिलाफ लाहौर में एक ही मैच में नौ विकेट हासिल किए थे। उस मैच में इरफान ने दो बार हैट्रिक हासिल की थी और यही उदाहरण देते हुए उनके कोच ने उन्हें वहां जाने के लिए प्रेरित किया।

सुरेश रैना ने इरफान पठान से कहा, मुझे याद है लाहौर मैच जब आपने 9 विकेट लिए थे, जिसमें दो हैट्रिक थी। सब लोग आपके बारे में बात करना शुरू कर चुके थे। आप ने पाकिस्तान में वो जो मैच खेला था, इसके बाद ही आपको ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टीम इंडिया में चुना गया था।”

पांच मैचों की वनडे सीरीज़ में भारत ने 3-2 और तीन मैचों की वनडे सीरीज़ 2-1 से अपने नाम की थी। भारत पहली बार पाकिस्तान में टेस्ट सीरीज़ जीतने में सफल रहा था। पठान को केवल तीन वनडे मैच खेलने का मौका मिला जिसमें उन्होंने आठ विकेट लिए और पूरी सीरीज़ में सबसे कम इकॉनमी (4.76) के साथ गेंदबाजी करने वाले गेंदबाज रहे। तीन टेस्ट में पठान ने 12 विकेट लिए थे।

Loading...
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano
विज्ञापन