Thursday, May 19, 2022

दंगों में मुस्लिम परिवार ने की थी हिफाजत, मुस्लमान बताकर रखा था घर में: शेफ विकास खन्ना

- Advertisement -

उत्तरप्रदेश का कासगंज 26 जनवरी के बाद से ही दंगों की आग में झुलस रहा है. हालाँकि अब हालात सामान्य हो चुके है. ऐसे में मशहूर शेफ विकास खन्ना का बॉलीवुड अभिनेता अनुपम खेर को दिया उनका इंटरव्यू सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है.

उनका ये इंटरव्यू 1992 के दंगों से जुड़ा है. जब वे मुंबई में एक होटल में अपनी सर्विस दे रहे थे. शीरॉक्स नाम के इस होटल को उन्होंने 1 नवंबर को ज्वाइन किया था. इस दौरान जमकर दंगे हो गए थे. उन्होंने बताया दंगों के दौरान एक मुस्लिम महिला ने उनको अपने घर में रखकर उनकी जान बचाई थी.

विकास ने बताया, दंगों के दौरान उन्हें पता चला था कि घाटकोपर में दंगा हो गया था. दरअसल उनका भाई घाटकोपर में रहता था. जैसे ही उन्हें इस बारें में पता चला वे होटल से भाई बचाने निकल गए थे. वे खास स्टेशन पहुंचे. इस दौरान कोई ट्रेन नहीं चल रही थी. वे जैसे-तैसे घाटकोपर की और बढ़ रहे थे.

इसी बीच एक क्रॉस सेक्शन आया. जहाँ एक मुस्लिम फैमिली उन्हें रोका और कहा- ”क्या कर रहे हो बेटा? उन्होंने बताया, मेरा भाई घाटकोपर में है, रास्ता नहीं समझ आ रहा मेरे को. मुझे चलते-चलते दो-ढाई घंटे हो चुके. उन्होंने कहा- ”अंदर आ, बाहर मोब है.”

उसी वक्त भीड़ उनके  घर पर आ गई पूछने के लिए कि ये बेटा किसका है? तो उनके घर में मुझे अच्छी तरह याद है, दो बेटे, एक बेटी और उनका जमाई भी उनके घर में था. उन्होंने कहा कि ये मेरा बेटा है, अभी बाहर से आया है. उन्होंने पूछा- ”मुस्लिम है?” उन्होंने कहा- ”हां” वो आजतक मैं नहीं भूला.

विकास ने कहा, मैं डेढ़ दिन उनके घर में रहा. मुझे नहीं याद कि वे कौन थे, मुझे कोई डायरेक्शन याद नहीं है. उन्होंने अपने जमाई को भेजा पता करने के लिए कि मेरा भाई ठीक है? वह मेरे जीवन की सबसे बड़ी बात है, डेढ़ दिन उनके घर पे फ्लोर पे सोना, और वे आपको सुरक्षा कर रहे हैं कि तू हमारा बच्चा है.

विकास कहते है कि 1992 से लेकर आजतक हर रमजान के टाइम पर मैं एक रोजा रखता हूं कि उनकी फैमिली भगवान… अल्लाह खुदा तू जो भी है, ऐसे नेक बंदे थे बे, उस दौरान. इंडिया में यह बड़ी एक पवित्रता है.

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles