चेक बाउंस मामले में बॉलीवुड अभिनेता राजपाल यादव को दिल्ली हाईकोर्ट ने तीन महीनों के लिए जेल भेज दिया है। राजपाल और उनकी पत्नी ने यह लोन फिल्म ‘अता पता लापता’ के निर्माण के दौरान 2010 में लिया था। इस फिल्म के जरिये राजपाल ने पहली बार फिल्म निर्देशन में हाथ आजमाया था।

राजपाल ने फिल्म के लिए दिल्ली के एक बिजनसमैन से 5 करोड़ रुपये का लोन लिया था। लेकिन इस रकम को नहीं चुकाने के कारण लोन देने वाले व्यक्ति ने कोर्ट की शरण ली। कोर्ट में  इसी साल समझौता हुआ कि राजपाल यादव 10 करोड़ 40 लाख की रकम वापस लौटाएंगे, लेकिन जब यह रकम राजपाल यादव ने नहीं चुकाई तो कोर्ट में उन्हें जेल भेज दिया।

इससे पहले अप्रैल में चेक बाउंस मामले में दिल्ली के कड़कड़डूमा कोर्ट ने 6 महीने की जेल की सजा सुनाई थी। हालांकि, उन्हें इसके बाद जमानत मिल गई थी। राजपाल यादव और उनकी पत्नी राधा की कंपनी के खिलाफ चेक बाउंस के सात मामले दर्ज हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इंदौर निवासी सुरेंदर सिंह से राजपाल यादव ने निजी आवश्यकता बताते हुए कुछ रकम उधार ली थी। इस रकम की वापसी के लिए यादव ने एक्सिस बैंक मुंबई का एक चेक सुरेंदर सिंह को दिया, जो कि सितंबर 2015 में बैंक में जमा करने पर बाउंस हो गया। इसके बाद सुरेंदर सिंह ने वकील के माध्यम से राजपाल को इस संबंध में नोटिस भेजा। इसके बावजूद राजपाल ने परिवादी को भुगतान नहीं किया। इस पर राजपाल यादव के खिलाफ जिला कोर्ट में परिवाद दायर कर दिया।

बता दें हाल ही में आई निर्देशक शैलेन्द्र सिंह राजपूत की फिल्म ‘इंग्लिश की टांय टांय फिस्स’ में राजपाल यादव, दर्शकों को अपनी जबर्दस्त कॉमेडी का फुल डोज़ देते हुए नज़र आएंगे।

Loading...