पिछले काफी दिनों से बीमार चल रहे सदाबहार कलाकार विनोद खन्ना उस समय अचानक सुर्ख़ियों में आ गये जब अस्पताल में उनकी एक फोटो वायरल हुई जिसमे विनोद बेहद कमज़ोर दिखाई दे रहे है. यहाँ तक की विनोद को सीधा खड़ा रखने के लिए सहारे की ज़रूरत पड़ रही है.

इस फोटो को देखकर कुछ शरारती तत्वों ने सोशल मीडिया पर विनोद खन्ना के मौत की खबर फैलानी शुरू कर दी, कई दफा मीडिया की रिपोर्ट्स में विनोद खन्ना की मौत का खंडन किया गया तथा बताया की उनकी सेहत में लगातार सुधार हो रहा है लेकिन उसके बावजूद शरारती तत्वों में अफवाह फैलानी जारी रखी.

मामले में दिलचस्प मोड़ तब आ गया जब शनिवार को मेघालय में बीजेपी के नेता इन अफवाहों पर यकीन कर लिया। उन्होंने बीमार चल रहे विनोद खन्ना की मौत की सूचना को सच मानकर श्रद्धांजिल तक अर्पित कर दी।

बीजेपी के महासचिव डेविड खारस्ती ने कहा, ‘सोशल मीडिया पर खबर देखकर हमने गलती से विनोद खन्ना के लिए मौन धारण किया। हम उनकी लंबी उम्र की कामना करते हैं।’

इस मामले ने एक सवाल यह खड़ा कर दिया है की जब मीडिया के मना करने के बावजूद समाज ज़िम्मेदार लोग ऐसी झूठी अफवाहों पर बिना जांच पड़ताल करे यकीन कर लेते है तो व्हाट्सऐप सरीखे मैसेंजर पर फैलाई जाने वाली अफवाहों से समाज में कितना ज़हर घुलता होगा ?

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें