bhan

bhan

फिल्म पद्मावती का विवाद अब संसदीय समिति तक पहुँच चूका है. ‘पद्मावती’ के निर्देशक संजय लीला भंसाली गुरुवार को इस सबंध में समिति के सामने पेश हुए और अपना पक्ष रखा.

भंसाली ने इस दौरान पुरे विवाद को अफवाहों पर आधारित करार दिया. इस दौरान उन्होंने एतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ के आरोपों को भी खारिज किया. भंसाली के साथ केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के प्रमुख प्रसून जोशी भी समिति के सामने प्रस्तुत हुए.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आईएएनएस के अनुसार भंसाली से फिल्म को सेंसर बोर्ड की मंजूरी मिलने से पहले कुछ चयनित पत्रकारों को फिल्म दिखाई जाने को लेकर सवाल किया गया.

इस सवाल के जवाब में भंसाली ने भारतीय सूफी कवि मलिक मुहम्मद जायसी के महाकाव्य ‘पद्मावत’ का संदर्भ बताते हुए कहा, “फिल्म को लेकर सारा विवाद अफवाहों पर आधारित है. मैंने तथ्यों के साथ छेड़छाड़ नहीं किया है. फिल्म मलिक मुहम्मद जायसी के काव्य पर आधारित है.”

भाजपा सांसद अनुराग ठाकुर की अध्यक्षता वाली 30 सदस्यी संसदीय समिति में कांग्रेस सांसद राज बब्बर और भाजपा के वरिष्ठ नेता एल. के. आडवाणी भी शामिल थे.

Loading...