अभिनेता इरफान खान के कुर्बानी को लेकर दिये बयान की कड़ी निंदा हो रही हैं. उनके खुद के शहर जयपुर के मुस्लिम धर्मगुरुओं ने इरफ़ान के बयान की आलोचना करते हुए उन्हें नसीहत दे डाली कि इरफान को अपने कॅरियर पर ध्यान केन्द्रित करना चाहिए साथ ही धार्मिक मामलों पर बोलने से पहले पूरी जानकारी हासिल कर लेनी चाहिए.

शहर काजी खालिद ने कहा कि इरफान खान को धर्म का ज्ञान नहीं है, यदि धर्म का ज्ञान होता तो जानवरों की कुर्बानी को लेकर बयान नहीं देते. उन्होंने आगे कहा कि इरफान खान को अपने कॅरियर पर ध्यान देना चाहिए और धर्म के बारे में पूरी जानकारी करने के बाद ही कुछ बोलना चाहिए. धर्म को लेकर भ्रम फैलाना उचित नहीं है. इस मामले में जमायते उलेमा ए हिंद के राज्य सविचव मौलाना अब्दुल वाहिद का कहना था कि इरफान खान को अपना ध्यान अभिनय पर देना चाहिए. उन्हें धर्म की व्याख्या नहीं करना चाहिए. वे धर्म के बारे में कुछ नहीं जानते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

गोरतलब रहें कि फिल्म ‘मदारी’ के प्रमोशनल इवेंट के दोरान उन्होंने कहा था कि कुर्बानी का मतलब अपनी कोई अजीज चीज कुर्बान करना होता है. ये नहीं कि बाजार से आप कोई दो बकरे खरीद लाए और उनको कुर्बान कर दिया.

Loading...