भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन को आंध्र उच्च न्यायालय द्वारा पहले ही फिक्सिंग के आरोपों से बरी किया जा चूका है. बावजूद इसके अब तक उन्हें उनकी बकाया राशि नहीं मिली है.

इस सबंध में प्रशासकों की समिति और बीसीसीआई पदाधिकारियों की मंगलवार को होने वाली बैठक में बातचीत की जाएगी.  बीसीसीआई के एक सीनियर अधिकारी ने कहा, ‘हां,अजहरुद्दीन के मसले पर सीओए की बैठक में बात की जाएगी. फिलहाल अजहर पर कोई प्रतिबंध नहीं है और वह बीसीसीआई के समारोहों में भाग ले रहे हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आखिरी बार वह 2000 में भारत के लिए खेले थे. उन्हें 17 साल से पेंशन नहीं मिली और एकमुश्त अनुग्रह राशि भी रुकी हुई है. सीओए इस बारे में फैसला लेगा.’

अजहर ने सीओए को बताया है कि आंध्र हाईकोर्ट ने पांच साल पहले उनके पक्ष में फैसला सुनाते हुए तमाम आरोपों से बरी कर दिया था.

Loading...