ढाका। हॉलीवुड अभिनेत्री एंजेलिना जोली ने मंगलवार को बांग्लादेश के कॉक्स बाजार का दौरा किया। जहां करीब 7 लाख 40 हजार रोहिंग्या रिफ्यूजी को रखा गया है।

इस दौरान उन्होने कहा कि रोहिंग्या मुस्लिमों के खिलाफ रखाइन प्रांत में हिंसा समाप्त करने के लिए म्यामां को ‘वास्तविक प्रतिबद्धता’ दिखानी चाहिए। अभिनेत्री का कहना है कि दुनिया के सबसे भयानक शरणार्थी संकटों में से एक रोहिंग्या मुस्लिमों की अपने वतन वापसी के लिए म्यामां को बेहतर माहौल तैयार करना चाहिए।

रोहिंग्या रिफ्यूजी से मिलने के बाद एंजेलिना ने कहा – ‘इन परिवारों से मिलकर काफी दुख हुआ। ये लोग बताते हैं कि इन्हें मवेशियों जैसा ट्रीट किया गया। एक्ट्रेस का बांग्लादेश की प्रधानमंत्री शेख हसीना और विदेश मंत्री एके अब्दुल मोमेन से मिलने का भी कार्यक्रम है।

संयुक्त राष्ट्र रिफ्यूजी एजेंसी की प्रतिनिधि के तौर पर दो दिवसीय दौर पर बांग्लादेश पहुंचीं एंजेलिना ने कहा कि हिंसा रोकने के लिए म्यांमार को पक्के तौर पर कमिटमेंट करना चाहिए। उन्होने कहा कि दुनियाभर में कठिन संघर्ष कर रहे किसी भी रिफ्यूजी से रोहिंग्याओं की स्थिति अलग नहीं है।

उन्होंने कहा कि रोहिंग्या को तभी वापस अपने देश जाना चाहिए जब लौटने को लेकर वे पूरी तरह सुरक्षित महसूस करें. एक्ट्रेस ने म्यांमार के रखाइन में हिंसा खत्म करने की अपील भी की। बता दें कि म्यामां के करीब 7,00,000 से ज्यादा मुस्लिम शरणार्थी अत्याचारों से बचने के लिए बांग्लादेश में शरण लिए हुए हैं।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें