साउथ फिल्म इंडस्ट्री के सुपर स्टार सूर्या शिवकुमार को NEET परीक्षा पर सवाल उठाना महंगा साबित हो सकता है। दरअसल, सूर्या पर अदालत की अवमानना का आरोप लगा है।

दरअसल, सूर्या ने रविवार को तमिलनाडु में नीट परीक्षा से पहले एक ही दिन तीन परीक्षार्थियों की आत्‍महत्‍या को लेकर कोर्ट से जुड़ा बयान दिया था, जिसे लेकर मद्रास हाईकोर्ट (Madras high court) के एक जज ने अदालत की अवमानना की शिकायत की है।

जस्टिस एसएम बालासुब्रमण्‍यम ने इस बारे में मद्रास हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस को पत्र भी लिखा है, उन्होने कहा, ‘यह बयान मेरे विचार में कोर्ट की अवमानना है। इससे माननीय जजों की संप्रभुता के साथ ही महान देश की न्‍याय प्रणाली को कमतर आंका गया है। साथ ही बुरी तरह से इसकी आलोचना भी की गई है। इससे आम लोगों की ओर से न्‍याय प्रणाली पर किए जाने वाले भरोसे पर खतरा उत्‍पन्‍न होता है।’

चीफ जस्टिस को भेजे अपने पत्र में न्यायाधीश एस एम सुब्रमण्यम ने कहा, “बयान से पता चलता है कि माननीय जज को अपनी जान का खतरा और वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए न्याय प्रदान करते हैं। जबकि, उनका कोई मनोबल नहीं है कि वे छात्रों को बिना किसी डर के नीट परीक्षा में बैठने का निर्देश देते हुए आदेश पारित करें।”

हालांकि सूर्या ने अपने बयान में कहा था, ‘कोरोना वायरस संक्रमण से जीवन पर खतरे के साथ अदालत वीडियो कॉन्‍फ्रेंसिंग के जरिये न्‍याय दे रही है और छात्रों को आदेश देती है कि बिना डर के जाओ और परीक्षाएं दो।’

विज्ञापन