कुछ नकलची जितना दिमाग नक़ल छुपाने में लगाते है अगर उतना ही दिमाग का इस्तेमाल पढाई में कर ले तो नक़ल करने की ज़रूरत ही ना पड़े, देहरादून में आजकल परीक्षाओं का दौर जारी है जहाँ डीएवी पीजी कॉलेज में चल रही गढ़वाल विश्वविद्यालय की परीक्षाओं के दौरान एक अनोखा नकलची पकड में आया.

यह नकलची एक पैर को अपने दुसरे पैर पर रखकर बड़े इत्मीनान से नक़ल कर रहा था इसका तरीका ऐसा था की देखने वाले तक को भनक ना लगे लेकिन बार बार पैर खुजाने पर शिक्षकों को इस पर शक हुआ तो इसकी पेंट उतरवाई गयी. जिसे देखकर सभी इनविजिलेटर भौचक रह गये.

कॉलेज में दोपहर की शिफ्ट में एग्जाम चल रहा था। इस दौरान जब डा. एसपी मित्तल जांच करने पहुंचे। उन्होंने देखा कि छात्र ने अपनी दोनों टांगों पर नकल सामग्री लिखी थी। जब उसकी पैंट ऊपर कराई गई तो शिक्षक भी हैरान रह गए।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

आमतौर पर नकल के मामले में पर्ची मिलती है, जिसके साथ नकलची की कॉपी सील कर दी जाती है, लेकिन यहां समस्या यह थी कि टांगों पर लिखी हुई सामग्री को कैसे प्रूफ बनाएं। लिहाजा, डा. मित्तल ने छात्र की टांगों की तस्वीर ली। इसका बाहर लैब में फोटो बनवाए। यह फोटो और छात्र की उत्तर पुस्तिका सील कर विवि को भेज दी।

Loading...