arrest

गिरफ्तारी शब्द का मतलब कानूनी अधिकार द्वारा किसी को पकड़ना और उन्हें हिरासत में लेना है. पुलिस को वारंट  के साथ और बिना किसी व्यक्ति को गिरफ्तार करने का अधिकार है. यह जरूरी है कि गिरफ्तार होने के समय ऐसे व्यक्ति को अपने अधिकारों को जानना चाहिए.जब दरवाजे पर अचानक से पुलिस आपको हिरासत में लेने आ जाये तो जानते हो क्या आप उन अपराधों के बारे में ?. आइये आज हम आपको उन अपराधों के बारे में बतायेंगे जो गिरफ्तारी के समय आपको जानने हैं बेहद जरुरी.

गिरफ्तारी के समय, आपके पास निम्नलिखित अधिकार हैं:

• गिरफ्तारी के कारण जानने का अधिकार

आपको यह पूछने का अधिकार है कि आपको गिरफ्तार क्यों किया जा रहा है और किस कानून के तहत आपको गिरफ्तार किया जा रहा है. सीआरपीसी की धारा 50 प्रत्येक व्यक्ति को उनकी गिरफ्तारी के कारण और उससे संबंधित कानून के बारे में पूछताछ करने की शक्ति प्रदान करती है. गिरफ्तार व्यक्ति को सूचित किया जाना चाहिए कि उसका अपराध जमानती है या गैर जमानती है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

• वारंट देखने का अधिकार

अगर किसी व्यक्ति को गैर-संज्ञेय अपराध के लिए गिरफ्तार किया जाता है, यानी यदि वारंट गिरफ्तारी की जाती है फिर सीआरपीसी की धारा 70 के तहत, उसे वारंट की सामग्री को देखने का अधिकार है.

• चुप / सही रहने का अधिकार

आपके पास चुप रहने का अधिकार हैं. पुलिस आपको स्पष्ट रूप से सूचित करेगी कि जो भी आप कहते हैं वह आपके खिलाफ अदालत में इस्तेमाल किया जा सकता है. भले ही पुलिस हिरासत में किए गए कबुली अदालत में स्वीकार्य नहीं हैं लेकिन फिर भी वे पुलिस को कथित अपराधी पर लाभ उठाने देते हैं.

• परिवार के सदस्य / मित्र को सूचित करने का अधिकार

गिरफ्तार व्यक्ति को परिवार के सदस्य, रिश्तेदार या उसकी गिरफ्तारी के मित्र को सूचित करने का अधिकार है. यह अधिकार सीआरपीसी की धारा 50 द्वारा अनुमानित है.

• कानूनी सहायता का अधिकार

सीआरपीसी की धारा 41 डी और 303 गिरफ्तार व्यक्ति को अपनी पसंद के कानूनी वकील की तलाश करने का अधिकार प्रदान करती है.

• चिकित्सा परीक्षा का अधिकार:

एक गिरफ्तार व्यक्ति को चिकित्सकीय जांच करने का अधिकार है जब उसे हिरासत में ले लिया जाता है, ताकि यह साबित किया जा सके कि उसने उस अपराध का उल्लंघन नहीं किया है जिस पर उसका आरोप लगाया गया है.

• अवैध हिरासत के खिलाफ अधिकार 

गिरफ्तार किए गए 24 घंटे के भीतर सभी गिरफ्तार व्यक्ति को मजिस्ट्रेट के सामने प्रस्तुत किया जाना चाहिए.

• हथकड़ी के खिलाफ अधिकार

जब तक फरार होने की कोई आशंका नहीं है, तब तक गिरफ्तार किए गए व्यक्ति को पुलिस से पूछने का अधिकार है कि वह उसे हथकड़ी ना लगायें.

• सूर्योदय से पहले और सूर्यास्त के बाद महिलाओं को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है:

सुप्रीम कोर्ट दिशानिर्देशों के अनुसार, रात में किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं किया जा सकता है. इसके अलावा, अगर किसी महिला को रात के दौरान तत्काल आधार पर गिरफ्तार करने की जरूरत है, तो पुलिस को गिरफ्तार करने की तत्कालता के कारण बताते हुए मजिस्ट्रेट से अनुमति प्राप्त करनी होगी.

आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 46 (4)

“सूर्यास्त के बाद और सूर्योदय से पहले किसी भी महिला को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा, असाधारण परिस्थितियों को छोड़कर, जहां महिला पुलिस अधिकारी एक लिखित रिपोर्ट करेगा, पहली कक्षा के न्यायिक मजिस्ट्रेट की पूर्व अनुमति प्राप्त करें जिसके स्थानीय अधिकार क्षेत्र में अपराध किया गया है या गिरफ्तार किया जाना है.”

• महिलाएं केवल महिला पुलिस अधिकारी की उपस्थिति में गिरफ्तार की जा सकती हैं

एक महिला की गिरफ्तारी के मामले में महिला पुलिस अधिकारी की उपस्थिति अनिवार्य है. आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 46 (1) में कहा गया है कि, जब तक कि पुलिस अधिकारी महिला ना हो या फिर पुलिस अधिकारीयों के साथ किसी महिला को गिरफ्तार करने के लिए महिला अधिकारी ना हो तब तक महिलाओं की गिरफ्तारी नहीं की जा सकती है.

(Lawzgrid – इस लिंक पर जाकर आप ऑनलाइन अधिवक्ता मुहैया कराने वाले एप्लीकेशन मोबाइल में इनस्टॉल कर सकते हैं, कोहराम न्यूज़ के पाठकों के लिए यह सुविधा है की बेहद कम दामों पर आप वकील हायर कर सकते हैं, ना आपको कचहरी जाने की ज़रूरत है ना किसी एजेंट से संपर्क करने की, घर घर बैठे ही अधिवक्ता मुहैया हो जायेगा.)

Loading...