489489554

किसी भी व्यक्ति के लिए उसकी जमीन जायदाद से जुड़े कागज बेहद प्यारे होते हैं, सम्पत्ति से जुड़े दस्तावेज बेहद महत्वपूर्ण होते हैं. इनका खो जाना या कहीं रख कर भूल जाना एक गंभीर समस्या है. जिसे किसी भी कीमत पर हल्के में नहीं लिया जा सकता है. यदि ऐसा होता है तो तुरंत कदम उठाना आवश्यक होता है. कई बार लोग स्वयं दस्तावेज गुम कर बैठते हैं तो ऐसा भी होता है कि होम लोन के लिए बैंक में जमा करवाए कागजात गुम हो जाते हैं. इसकी वजह बैंक या उन्हें संभालने वालों की लापरवाही हो सकती है.

गुम कागजात वाली सम्पत्ति को बेचना बहुत कठिन हो जाता है. हालांकि, सम्पत्ति के कागजात खो जाने के बाद भी दोबारा बनवाए जा सकते हैं.बस खोए हुए कागजात की एफ.आई.आर. कराकर इसे दोबारा से बनवाने के लिए संबंधित कार्यालय में आवेदन करना होता है. याद रखें कि डुप्लीकेट कागजात बनवाने के लिए शुल्क भी अदा करना पड़ता है.

अगर कागजात खो जांए तो अपनाये यह प्रक्रिया :

FIR दर्ज करवाएं

डुप्लिकेट पेपर के लिए आवेदन करने से पहले, एक व्यक्ति को मुख्य रूप से उसके खोए, चोरी या मूल संपत्ति पत्रों के लिए सबसे पहले पुलिस में एफआईआर दर्ज करवानी चाहिए. इसकी एक प्रति संभाल कर अपने पास रखें क्योंकि संपत्ति बेचते वक्त खरीदार इसकी भी मांग कर सकता है.  यदि कोई बैंक बंधक संपत्ति के संबंध में दस्तावेज़ों को गलत करता है तो एक प्राथमिकी भी दर्ज की जानी चाहिए. यदि आप एक खरीदार हैं, तो अपने विक्रेता से संबंधित संपत्ति पत्रों के लिए पूछना आपके कानूनी अधिकार है.

विज्ञापन छपवाएं

एफआईआर दर्ज करवाने के अलावा कागजात खो जाने का विज्ञापन भी अखबार में जरूर दें ताकि वे किसी व्यक्ति को मिलें तो वह आपको वापस लौटा सके. अंग्रेजी व हिन्दी अखबार के अलावा अपने इलाके की स्थानीय भाषाई अखबार में भी विज्ञापन दें.

प्रॉपर्टी रजिस्ट्रेशन

एफआईआर के आधार पर एक घर मालिक के पास आवास समाज से डुप्लिकेट शेयर प्रमाण पत्र के लिए आवेदन करने का विकल्प भी है. इसके बाद, आवास समाज इस प्रमाणपत्र आवेदन को समाज की बैठक में साझा कर सकता है. इस मामले पर सकारात्मक सहमति से एक निश्चित शुल्क के भुगतान के बाद मालिक को डुप्लिकेट शेयर प्रमाण पत्र जारी किया जा सकता है.

इसके साथ ही बेहतर होगा कि एन.ओ.सी. यानी ‘नो-ऑब्जैक्शन सर्टीफिकेट’ की भी मांग करें. एनओसी एक और महत्वपूर्ण दस्तावेज है कि घर मालिक और खरीदार दोनों के पास होना आवश्यक है. इस दस्तावेज़ की अनुपस्थिति में, खरीदार को बैंक / उधारदाताओं से गृह ऋण प्राप्त करना मुश्किल होगा.

उपर्युक्त प्रक्रियाओं के बाद, एक घर मालिक को स्टैम्प पेपर पर खोए / लापता मूल संपत्ति पत्रों के संबंध में उपक्रम प्राप्त करने की आवश्यकता होती है. उपक्रम में संपत्ति विवरण, एफआईआर संख्या और प्रकाशित समाचार पत्र विज्ञापन का एक संस्करण शामिल होना चाहिए, जिसमें एक पत्र के साथ यह पुष्टि होनी चाहिए कि उपक्रम में दिए गए सभी विवरण सही हैं. मालिक को यह उपक्रम पंजीकृत होना चाहिए, प्रमाणित किया गया है और साथ ही साथ एक वकील द्वारा नोटराइज किया जाना चाहिए.

डुप्लीकेट सेल डीड हासिल करें

डुप्लीकेट सेल डीड हासिल करने के लिए एफ.आई.आर., विज्ञापन, शेयर सर्टीफिकेट और नोटरी द्वारा रजिस्टर्ड एफिडेविट की प्रतियों को रजिस्ट्रार के दफ्तर में जमा करवाएं. प्रॉपर्टी के वैध कागजातों के लिए शुल्क के रूप में पैसे भी अदा करने पड़ते हैं. अगर आपके कागजात बैंक की गलती से खोए हैं तो आप हर्जाने की मांग भी कर सकते हैं.आपके दस्तावेजों की सुरक्षा की जिम्मेदारी बैंक पर होती है और उनकी लापरवाही के लिए उन पर जुर्माना भी हो सकता है. इस सारी प्रक्रिया के बाद आपको दस्तावेजों की डुप्लीकेट कापी जारी कर दी जाती है.

(Lawzgrid – इस लिंक पर जाकर आप ऑनलाइन अधिवक्ता मुहैया कराने वाले एप्लीकेशन मोबाइल में इनस्टॉल कर सकते हैं, कोहराम न्यूज़ के पाठकों के लिए यह सुविधा है की बेहद कम दामों पर आप वकील हायर कर सकते हैं, ना आपको कचहरी जाने की ज़रूरत है ना किसी एजेंट से संपर्क करने की, घर घर बैठे ही अधिवक्ता मुहैया हो जायेगा.)

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?