medical

कानूनी मेट्रोलॉजी विभाग ने कई निजी अस्पतालों में सर्वे किया है. यह वह समय है जब आपको अस्पतालों द्वारा खुद को ज्यादा पैसों की वसूली करने से सावधान रखने की ज़रूरत है. भारत सरकार ने जीवन रक्षा उपकरणों और दवाइयों की कीमतों को कम करने के लिए जबरदस्त प्रयास किए हैं जिन पर अभी भी अस्पतालों द्वारा भारी शुल्क लिया जा रहा ह

कानून के अनुसार, पैकेज की गई वस्तुओं पर उनके अधिकतम खुदरा मूल्य या एमआरपी पर शुल्क नहीं लगाया जा सकता है. लेकिन अस्पतालों में मरीजों से ज्यादा रकम वसूली जा रही है.

नेशनल फार्मास्युटिकल प्राइसिंग एजेंसी स्टेंट की कीमतों के कैपिंग के हालिया उदाहरण के साथ चिकित्सा उपकरणों की कीमतें बताई गयी है, जिसने भारत में एंजियोप्लास्टीज़ की लागत में भारी कटौती की गयी है. स्टाक्स अब पैकेज किए गए वस्तुओं के रूप में परिभाषित किए गए हैं एंजियोप्लास्टी कैथेटर, श्वास सर्किट, गुब्बारा उपकरण, कपड़े प्राकृतिक फाइबर, गाइड वायर, चतुर्थ कैथेटर, हाथों पर दस्ताने और रक्त संग्रहकर्ता इत्यादि जैसे कई अन्य चिकित्सा उपकरण, यह सभी पैक की गई वस्तुओं की श्रेणी में आते हैं और सख्ती से प्रतिबंधित हैं उनके मुद्रित एमआरपी पर बेचा जा रहा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

तो एक उपभोक्ता के रूप में, अब आप किसी भी अस्पताल की सेवाओं का लाभ ले सकते हैं जो आपके एमआरपी के ऊपर ऐसी किसी भी वस्तु के लिए आपसे ज्यादा रकम वसूल कर रहा हो. हालांकि किसी भी मरीज़ और उसके परिवार के लिए, अस्पताल में भर्ती होने के बाद एक परीक्षण समय हो जाता है, यह महत्वपूर्ण है कि आप जागरूक रहें और अस्पतालों द्वारा शोषण से बचने के लिए समय पर कार्रवाई करें.

भारत के लोगों के लिए इसे अधिक किफायती बनाने के लिए आवश्यक दवाइयों की राष्ट्रीय सूची के तहत कई दवाइयों की कीमतें तय की गई हैं. 2017 के चिकित्सा उपकरणों के नियमों ने मूल्य को नियंत्रित करने और भारत के मरीजों के लिए इसे अधिक किफायती बनाने के लिए विभिन्न नियम भी लाए गये हैं. आपको बता दें कि यह सभी नियम नेशनल लिस्ट ऑफ एसेंशियल मेडिसिन्स 2015 के तहत आते है.

अगर अस्पताल वसूल रहा है ज्यादा रकम तो इस तरह करें शिकायत 

सभी दस्तावेजों सहित बिल की भी कॉपी अपने पास रखें.

अस्पताल के प्रबंधन को आधिकारिक शिकायत करें ताकि वे तुरंत खुद को सही कर सकें.

आप सरकार के स्थानीय चिकित्सा अधिकारी के साथ भी शिकायत दर्ज कर सकते हैं.

आप इस मामले पर गौर करने के लिए अपनी बीमा कंपनी से भी संपर्क कर सकते हैं क्योंकि वे एक प्रभावित पार्टी हैं और अस्पतालों द्वारा ज्यादा चार्ज करने के किसी भी मामले को सुधारने के लिए उत्सुक होंगे.

आप अपने राज्य में कानूनी माप विज्ञान के नियंत्रक के कार्यालय या तो एक पत्र या ईमेल के माध्यम से संपर्क कर सकते हैं.

आप राज्य या केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय से संपर्क कर सकते हैं जो आपकी चिंता का समाधान कर सकते हैं.

आप भारत की मेडिकल काउंसिल और भारत की दवा परिषद को भी लिख सकते हैं.

आप अपने जिले में उपभोक्ता अदालत में शिकायत दर्ज कर सकते हैं.

अस्पताल के खिलाफ किसी भी कानूनी कार्रवाई के लिए, आप एक वकील से संपर्क कर सकते हैं जिसके माध्यम से आप गलती पर अस्पताल के खिलाफ मामला दर्ज कर सकते हैं.

अस्पताल के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के लिए यह दस्तावेज़ है ज़रूरी

रोगी के लिए चिकित्सक का प्रिस्क्रिप्शन.

अस्पताल से बिल की कॉपी.

बाजार मूल्य या विशेष उत्पाद के एमआरपी का सबूत.

अस्पताल के प्रतिनिधियों के हस्ताक्षर के साथ रसीदें.

रोगी की पहचान प्रमाण.

जागरूकता आपका सबसे अच्छा सहारा है.

(Lawzgrid – इस लिंक पर जाकर आप ऑनलाइन अधिवक्ता मुहैया कराने वाले एप्लीकेशन मोबाइल में इनस्टॉल कर सकते हैं, कोहराम न्यूज़ के पाठकों के लिए यह सुविधा है की बेहद कम दामों पर आप वकील हायर कर सकते हैं, ना आपको कचहरी जाने की ज़रूरत है ना किसी एजेंट से संपर्क करने की, घर घर बैठे ही अधिवक्ता मुहैया हो जायेगा)

Loading...