उत्तर प्रदेश की सत्ता हासिल करने के लिए भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) भले ही कई समीकरण तलाश रही हो लेकिन अगर असदुद्दीन ओवैसी की आल इंडिया मजलिस इत्तेहादुल मुस्लेमीन (ऐआईएमआईएम) और मायावती की बहुजन समाज पार्टी (बसपा) का चुनावी गठबंधन हो जाता है तो शायद प्रदेश में बीजेपी सत्ता...
sharia court
उबैद उल्लाह नासिर भारतीय मुसलमानों की प्रतिनिधि संस्था आल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड द्वारा प्रत्येक जिले में “दारुल कुजा” या शरई अदालतों के गठन के एलान के साथ भारत की मीडिया विशेषकर चैनलों ने ऐसा दिखाने और समझाने का प्रयास शुरू कर दिया है जैसे मुस्लिमों की इस संस्था...
‘मीडिया को हमेशा विपक्ष होना चाहिये’ महज एक लाईन में पत्रकारिता की दिशा निर्धारित कर देने वाले गणेश शंकर विद्यार्थी अगर आज होते तो अपनी ही लाईन पर या तो अफसोस जता रहे होते या फिर उसी पर कायम रहकर देशद्रोही, देशविरोधी, जैसे जुमले सुन रहे होते। मीडिया ने...
नासिर शाह (सूफ़ी) जुल्म जब चरम पर हो तो देखने वालो की रूह कांप जाती है. छोटे- मोटे सडक हादसे मे घायल व्यक्तियों को देखने मे लोगो का मुँह बिगड जाता है . आज के इस दौर मे महसूस होता है की दुर्घटनाओ मे घायल व्यक्तियों का दर्द उन लोगो...
आर्थिक सर्वे को सिर्फ उसी नज़र से मत पढ़िए जैसा अख़बारों की हेडलाइन ने पेश किया है। इसमें आप नागरिकों के लिए पढ़ने और समझने के लिए बहुत कुछ है। दुख होता है कि भारत जैसे देश में आंकड़ों की दयनीय हालत है। यह इसलिए है ताकि नेता को...
पिछले साल मई में रिपब्लिक चैनल पर हैदराबाद से एक स्टिंग चला था। आप यू ट्यूब पर इसकी डिबेट निकाल कर देखिए, सर फट जाएगा। स्टिंग में तीन लड़कों को ISI के लिए काम करने वाला बताया गया था । जब पुलिस ने देशद्रोह का केस दर्ज किया था...
batakh
महात्मा गांधी के चंपारण सत्याग्रह के सौ साल पूरे होने पर बापू अभी चर्चा में हैं। मैं थोड़ी सी चर्चा उस शख्स की करना चाहता हूं जो अगर न होता तो न गांधी नहीं होते और न भारतीय स्वतंत्रता संग्राम का इतिहास वैसा होता जैसा हम जानते हैं। वे...
आतंकवाद के आरोप में पकडे गए निर्दोष मुसलमान. जिस तरह जेलों में 5-5 , 10-10 सालों तक निर्मम , अमानवीय यातनाएं सहने के बाद एक-एक कर के बा इज्ज़त बरी होते जा रहे हैं , और जिस तरह इसके बाद भी हर अलर्ट के बाद मुसलमानों को गिरफ्तार किया...
prasu
तो कॉरपोरेट देश चलाता है या कॉरपोरेट से सांठगांठ के बगैर देश चल नहीं सकता। या फिर सत्ता में आना हो तो कॉरपोरेट की जरुरत पड़ेगी ही । और कॉरपोरेट को सत्ता से लाभ मिले तो फिर कॉरपोरेट भी सत्ता के लिये अपना खजाना खोल देता है। ये सारे...
मेरे प्यारे देश वासियों आप सभी को मेरा आदाब! दोस्तों, जैसा कि आप ख़ुद देख रहे हैं और महसूस भी कर रहे हैं कि आज हमारे देश में सांप्रदायिक कट्टरवादी राजनीतिक ताक़तें अपने फ़ायदे के लिए समाज में एक नफ़रत का ज़हर घोल रही हैं जिसमें दुर्भाग्य से लोकतंत्र...

ताज़ा समाचार