सैय्यद ज़ैगम मुर्तज़ा  सर सय्यद अहमद ख़ान का ख़्वाब एक मॉडर्न यूनीवर्सिटी थी... इसके चक्कर में बड़े मियां ने जूते खाए, गालियां खाईं, फतवे झेले और लानत के तौक़ गले में टांगे... लेकिन बेवजह मेहनत करते रहे। एक तो ग़लत क़ौम में पैदा हो गए बेचारे। जानते ही नहीं थे...
modi in bhgw
पहली तस्वीर....लुटियन्स दिल्ली वीडियो कान्फ्रेंसिंग के जरीये पिछले दिनो प्रधानमंत्री जब सचिवों से सवाल जवाब कर रहे थे, तब किसी सवाल पर एक सचिव अटक गये। और अटके सवाल पर कोई सीधा जवाब जब सचिव महोदय नही दे पाये तो प्रधानमंत्री ने कुछ उखड़कर कहा आप ऐसे ही जवाब 2019...
पुण्य प्रसून बाजपेयी दिल्ली यूनिवर्सिटी के 45 कालेजों में 1734 पद खाली पड़े हैं। इसके लिये बकायदा 10 जून से लेकर 15 जुलाई 2017 के बीच विज्ञप्ति निकालकर बताया भी किया कि रिक्त पद भरे जायेंगे। कमोवेश हर विषय या कहें फैकल्टी के साथ रिक्त पदों का जिक्र किया गया...
ravish kumar lead 730x419
मैं नेताओं के हिम्मत की दाद देता हूं। वाकई ये समझने लगे हैं कि हमारे नौजवानों को हिन्दू मुस्लिम टापिक के अलावा कुछ नहीं चाहिए। बिहार मे इस वक्त 80,000 से अधिक छात्र अपने एडमिट कार्ड का इंतज़ार कर रहे हैं। 1 अक्तूबर से परीक्षा होनी है। एडमिट कार्ड...
मैं पत्रकार हूँ। अख़बार नहीं हूँ कि भारत की सारी ख़बरों को अपने देह पर छाप आपके घर आ जाऊँगा। सारी ख़बरों को करने और उन पर लिखने लगा तो मैं तीन चार सौ साल बाद भी घर न लौट सकूँ। जब बैंक, टेलीकाम सेक्टर पर लिखता हूँ या...
why-islam-dont-give-permission-to-having-four-husband
श्रीमान कमल बी पाशा, न्यायाधीश, उच्च न्यायालय, केरल 7 मार्च 2016 को कोझिकोडे में एक सभा को संबोधित करते हुए आपने इस्लाम धर्म की कानून व्यवस्था पर इल्जाम लगाते हुए ये कहा कि इस्लाम धर्म में महिलाओं और पुरुषों में भेदभाव किया जाता हैं एवं महिलाओं को उनके अधिकार नहीं दिये...
संविधान के अनुच्छेद 356 के अनुसार राष्ट्रपति को ये अधिकार है कि वो किसी भी समय राष्ट्रपति शासन लागू कर सकते हैं. वो ये तब कर सकते है जब राज्यपाल की रिपोर्ट या और कारणों से संतुष्ट हो जाएँ कि राज्य का शासन संविधान के अनुसार नहीं चल रहा है...
भारत में सन् सात सौ ग्यारह ईसवी (711 CE) में मुसलमानों का आगमन हुआ था . इसी साल वे स्पेन में भी दाखिल हुए थे. मुसलमानों का भारत में दाखिल होने का कारण था, समुद्री लूटेरों द्वारा मुसलमानों के नागरिक जहाज़ (पानी के जहाज़) को बंधक बनाना, जो कि...
कौन सी फ़िल्म बनेगी और उसमें कौन एक्टिंग करेगा इसका फैसला डायरेक्टर और प्रोड्यूसर नहीं बल्कि आजकल सियासत तय करने लगी है और फ़िल्मों का स्क्रिप्ट भी लुटियन दिल्ली से लिखकर जाता है। शुद्ध रूप से भारतीय सिनेमा को इस वक़्त सियासी एजेंडा सेट करने के लिए,...
म्यांमार की सेना ने देश और दुनिया के सबसे पीड़ित अल्पसंख्यक रोहिंग्या मुस्लिम समुदाय के ऊपर जुल्मों-सितम की हदें पार करते हुए दुनिया के सामने अपना क्रूर चेहरा पेश किया. इस बात का खुलासा मानवाधिकार संगठनों और सयुंक्त राष्ट्र संघ की रिपोर्ट में पहले ही हो चूका हैं. लेकिन अब म्यांमार...

ताज़ा समाचार