Sunday, July 21, 2019
तनवीर आलम 17वीं लोकसभा चुनाव में भाजपा प्रचंड बहुमत से सरकार बना चुकी है। सत्ताधारी पार्टी भाजपा और गठबंधन में जहां उत्साह है वहीं विपक्ष इसको अप्रत्याशित जीत मान कर हताश है। समाजवादी, गांधीवादी, वामपंथी और अम्बेडकरवादी लगभग शून्य की स्थिति में हैं। जमीन, जंगल, पहाड़ और पानी बचाने की...
gujarat election
अल्पेश ठाकोर भी बीजेपी में जा रहे हैं। अठावले पासवान, नीतीश समेत कई वहां पहले से हैं। उदित राज हाल में जूते खाकर लौटे हैं। अब अगर हम कहें कि दलित, ओबीसी मुसलमानों को इस्तेमाल करते हैं और फिर धोखा देकर भाग जाते हैं तो आपको बुरा लगता है।...
प्रशांत टंडन हमारे दौर का इतिहास अभी बन रहा है - लिखा आगे जायेगा. इतिहास घटनाओं को समेटता हुआ अपने अध्याय लिखता है पर उसके हर अध्याय का केंद्र उस दौर के व्यक्ति होते हैं जो घटनाओं के केंद्र में होते हैं या उन्हे प्रभावित कर रहे होते हैं. दूसरी...
ये जो लगभग दो दर्जन मुस्लिम संसद में पहुंचे हैं तो ज़्यादा मत पगलाइये । अपनी क़यादत होनी चाहिए ज़रूर होनी चाहिए मैं भी समर्थन करता हूँ मगर उसमें और का भी समावेश होना चाहिए, दूसरों के प्रति सम्मान और कृतज्ञयता भी होनी चाहिए । आप फर्जी सेक्युलरिज़्म को...
punya
अंधेरा घना है और अंधेरे की सियासत तले लोकतंत्र का उजियारा खोजने की कोशिश हो रही है । मौजूदा वक्त में  लोकतंत्र का ये ऐसा रास्ता है जिसने आजादी के बाद से ही सत्ता हस्तातरण के उस मवाद को उभार दिया है जिसमें देश चाह कर भी बार बार...
india muslim 690 020918052654
जिस इलाके में मुसलमानो की तादाद बढ़ जाती उस इलाके को लोग पाकिस्तान कहने लग जाते है। एक दोस्त यूनाइटेड किंगडम में है उन्होंने कहा-लंदन और बर्मिंघम तो मिनी पाकिस्तान हो गया है। हालांकि ऐसा बिल्कुल नहीं कि उन शहरों में बस पाकिस्तानी लोग ही है सारी दुनिया के...
प्रधानमंत्री की केदारनाथ यात्रा मतदान के दिन प्रभावित करने के अलावा कुछ नहीं है। आज के दिन चैनलों पर इस बहाने चैनलों पर लगातार कवरेज हो रहे हैं। ताकि मतदाता को मतदान के पीछे धार्मिक मेसेज दिया जा सके। हमारे देश में चुनाव आयोग तो है नहीं। नाम का...
भारत में 1000 चोटी की कंपनियों में 25 परसेंट ऐसी हैं जिनकी बाज़ार पूंजी मोदी राज के 5 साल में आधी से भी कम हो गई। यही नहीं इन कंपनियों पर कर्ज़ का बोझ भी काफी बढ़ गया है। बिजनेस स्टैंडर्ड के कृष्णकांत ने 964 कंपनियों का सैंपल लिया है।...
प्रशांत टंडन एहसान जाफरी, इशरत जहां, अखलाक, पहलू खान, जज लोया दिन रात मोदी का पीछा करते हैं. मोदी की इमेज 2002 में कैद हो चुकी है और वो इससे निकलने की कोशिश में तमाम गलतियां करते हैं. बीच बीच में करन थापर और टाइम मैगज़ीन का महाविभाजनकारी का टाइटिल...
ध्रुव गुप्त आज 10 मई के दिन भारत के पहले स्वाधीनता संग्राम की वर्षगांठ पर देश 1857 के शहीदों की याद कर रहा है। उनमें ज्यादातर उस दौर के राजे-रजवाड़े और सामंत थे जिनके सामने अपने छोटे-बड़े राज्य को अंग्रेजों से बचाने की भी चुनौती थी। स्वाधीनता संग्राम के विस्मृत...

ज़रूर पढ़ें

ताज़ा समाचार