Monday, November 18, 2019
आज 14 अप्रैल है आम्बेडकर साहब का जन्मदिन े वो पुष्प जो जमीन पर उगा और फकत आसमान पर खिला, जिसने लाख कठिनाइयाँ झेली पग-पग पर अपमान झेला पर अपना विश्वास नहीं खोया, अपनी मंजिल जिसने खुद तय की, मुश्किलों के पहाड़ों का सीना चीर कर जिसने अपना रास्ता...
तनवीर जाफरी हमारे देश में विभिन्न राजैतिक दलों के कई प्रमुख नेताओं द्वारा यहां तक कि मंत्री व सांसदों जैसे संवैधानिक व जिम्मेदार पदों पर बैठे लोगों द्वारा एक-दूसरे के चरित्र पर प्रहार करना, उनके लिए अपशब्दों का प्रयोग करना यहां तक कि अभद्र भाषा का इस्तेमाल या गालियां तक...
देश के रोम-रोम में समा चुके भ्रष्टाचार से त्रस्त लोगों को वैकल्पिक राजनीति का सपना दिखाने वाली तथा देश को भ्रष्टाचार मुक्त शासन देने का दावा करने वाली आम आदमी पार्टी ने गत् 5 अप्रैल को दिल्ली के तालकटोरा स्टेडियम में एक सार्वजनिक सभा में भ्रष्टाचार विरोधी हेल्पलाईन जारी...
2011 में कई अरब व मध्य-पूर्व एशियाई देशों में फैले विद्रोह की आग अब यमन तक फैल गई है। वहां शिया समुदाय से संबंध रखने वाले हूदी मिलीशिया ने राष्ट्रपति आबिद रब्बू मंसूर हादी के विरुद्ध बड़े पैमाने पर विद्रोह कर उन्हें देश छोडकर भागने के लिए मजबूर कर...
नई दिल्ली रविवार को जजों की कॉन्फ्रेंस को संबोधित करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कानून और कानूनी प्रक्रिया में बड़े बदलाव लाने की पैरवी की । उन्होंने कहा कि पेचीदा कानूनों को हटाया जाना चाहिए, ताकि कानून प्रक्रिया बोझिल न रहे। पीएम ने कहा कि वह हर दिन एक...
आलमी मंज़र नामा पर रौनुमा होने वाले वाक़ियात और उन के रद्द-ए-अमल में मुख़्तलिफ़ ममालिक के माबैन बदलते रवाबित वुज़ू इबत के हवाले से बात की जाये तो ये बिलकुल वाज़िह है कि आज के हालात में हुकूमत की सतह पर हो या अवामी सतह पर दोस्ती और दुश्मनी...
दो-तीन दशक पूर्व तक हमारे देश की अधिकांश आबादी अपनी रसोई के ईंधन के रूप में लकड़ी,लकड़ी के बुरादे, कोयला, मिट्टी का तेल, स्टोव आदि का इस्तेमाल किया करती थी। उस समय निश्चित रूप से सुबह व शाम के समय आसमान पर काले धुंए की एक मोटी परत वातावरण...
भावनाएं भड़कना हिन्दुस्तान में कोई नयी बात नहीं है, किसी भी बात को अनैतिकता का पक्षधर बताकर यहाँ भावनाएं भड़क जाती हैं। भावनायें तो जैसे यहाँ शोलों पर रखी रहतीं हों या कहें तो भावनाओं का 'क्वथनांक' यहाँ बहुत कम जान पड़ता है। लाख सबूत और गबाहों के बाबजूद भावनायें यहाँ आसाराम और रामपाल के पक्ष...
अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में गत् 19 मार्च को फरखंदा नामक एक 27 वर्षीय मुस्लिम लडकी को स्वयं को धर्म का ठेकेदार बताने वाले मुस्लिम उन्मादियों की हजारों की भीड़ द्वारा जिंदा जला कर मार डाला गया तथा उसकी जली हुई क्षत-विक्षत लाश को काबुल नदी में इन्हीं उन्मादी...
नई दिल्ली। रेलवे के पुनर्गठन के रास्ते तलाशने के लिए बिबेक देबरॉय की अध्यक्षता में बनाए गए पैनल ने कई सुझाव दिए हैं। पैनल का कहना है रेलवे की हालत सुधारने के लिए बड़े पैमाने पर उदारीकरण करने की आवश्यकता है। पैनल ने सिफारिश की है कि प्राइवेट कंपनियों को...

ताज़ा समाचार