Thursday, July 18, 2019
दो-तीन दशक पूर्व तक हमारे देश की अधिकांश आबादी अपनी रसोई के ईंधन के रूप में लकड़ी,लकड़ी के बुरादे, कोयला, मिट्टी का तेल, स्टोव आदि का इस्तेमाल किया करती थी। उस समय निश्चित रूप से सुबह व शाम के समय आसमान पर काले धुंए की एक मोटी परत वातावरण...
भावनाएं भड़कना हिन्दुस्तान में कोई नयी बात नहीं है, किसी भी बात को अनैतिकता का पक्षधर बताकर यहाँ भावनाएं भड़क जाती हैं। भावनायें तो जैसे यहाँ शोलों पर रखी रहतीं हों या कहें तो भावनाओं का 'क्वथनांक' यहाँ बहुत कम जान पड़ता है। लाख सबूत और गबाहों के बाबजूद भावनायें यहाँ आसाराम और रामपाल के पक्ष...
अफगानिस्तान की राजधानी काबुल में गत् 19 मार्च को फरखंदा नामक एक 27 वर्षीय मुस्लिम लडकी को स्वयं को धर्म का ठेकेदार बताने वाले मुस्लिम उन्मादियों की हजारों की भीड़ द्वारा जिंदा जला कर मार डाला गया तथा उसकी जली हुई क्षत-विक्षत लाश को काबुल नदी में इन्हीं उन्मादी...
नई दिल्ली। रेलवे के पुनर्गठन के रास्ते तलाशने के लिए बिबेक देबरॉय की अध्यक्षता में बनाए गए पैनल ने कई सुझाव दिए हैं। पैनल का कहना है रेलवे की हालत सुधारने के लिए बड़े पैमाने पर उदारीकरण करने की आवश्यकता है। पैनल ने सिफारिश की है कि प्राइवेट कंपनियों को...
विकासशील देशों की आर्थिक नीतियों में कृषि तथा औद्योधोकीकरण में संतुलन बनाये रखना हमेशा से ही चुनौतीपूर्ण रहा है। जहाँ विभिन्न क्षेत्रों में उत्पादकता बढ़ाने और बढ़ती बेरोजगारी के हल के रूप में औद्योधोकीकरण की जरुरत है वहीँ दुसरे ओर बढ़ती खाद्यन्न जरूरतों को पूरी करने के साथ साथ...
सरकार के फैसले और आम आदमी लोकसभा चुनाव 2014 , बात सिर्फ सत्ता परिवर्त्तन की नहीं थी बात थी सपनों की ,आशाओं की और सच कहें तो बात थी अच्छे दिनों की। बात यूपी की हो या बिहार की इस बार उस तवके ने बीजेपी को दिल खोलकर वोट किया...
माफ कीजिए, मैं बहुत गुस्से में हूं। इतना गुस्से में हूं कि कसाब जैसे दुर्दांत आतंकवादी से भी माफी मांग लेना चाहता हूं कि हम तुमसे गलत वजहों से नफरत करते रहे। इतना गुस्से में हूं कि उज्ज्वल निकम जैसे प्रचारित राष्ट्रभक्त के मुंह पर दो-चार जड़ देना चाहता...
अलीगढ मुस्लिम यूनिवर्सिटी के बानी सर सय्यद अहमद खां को मुसलमानों में आधुनिक शिक्षा का जन्मदाता माना जाता है .यह कहना गलत नहीं होगा कि वे भारत में मुसलमानों की गरीबी और अशिक्षा को देख कर बहुत चिंतित थे और उनकी दशा सुधारने की हमेशा फ़िक्र करते थे .उन्होंने...
निर्मल रानी पिछले दिनों नागालैंड के दीमापुर में घटित हुई लोमहर्षक घटना ने पूरे देश के न्यायप्रिय तथा भारतीय संविधान व लोकतंत्र पर अपना विश्वास रखने वाले लोगों को हिलाकर रख दिया। हमारा देश ऐसी ही सांप्रदायिकता से शराबोर भीड़ के कई बदनुमा कारनामों को पहले भी कई बार देख...
  तनवीर जाफ़री जनता को भ्रष्टाचार मुक्त राजनीति का सपना दिखाकर मात्र दो वर्ष पूर्व गठित की गई आम आदमी पार्टी जहां तेज़ी से बढ़ते हुए अपने जनाधार के लिए जानी जा रही है वहीं इतने कम अंतराल में ही इसके कई प्रमुख बल्कि पार्टी का गठन करने वाले स्तंभ रूपी...

ज़रूर पढ़ें

ताज़ा समाचार