Tuesday, May 26, 2020
भारत का बजट सोमवार को आ रहा है. लगभग हर टीवी चैनल, हर अख़बार बजट की ख़बरों से रंगे हुए हैं. पर आम आदमी के लिए यह कवरेज और बजट बेतुका है. पर क्यों? इसके पाँच बड़े कारण निम्न हैं. वित्तीय घाटा: सारे वित्तमंत्री और विशेषज्ञ बजट में वित्तीय घाटे के...
माननीय प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी, पेशे से पत्रकार हूं। पत्रकार यानि आजकल का सबसे बदनाम पेशा, अब तक लोग घर बैठकर मन ही मन कोसते थे लेकिन हाल के दिनों में परिस्थितियां बदली है। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बढ़ी और राष्ट्रभक्ति जगी तो लोग सड़कों पर भी निकलने लगे हैं। हम...
वर्ष 2016-17 के लिए आने वाले बजट से हमें क्या उम्मीद करनी चाहिए? मैं उम्मीद करता हूं कि वित्तमंत्री मौजूदा वित्तवर्ष में राजकोषीय घाटे के 3.9 फीसद के लक्ष्य को आसानी से पा लेंगे। यह अच्छा ही है कि फरवरी के आखिरी दिन सोमवार होगा, जिस दिन बजट पेश किया...
बचपन गुज़र रहा था और समझ पनप रही थी, समाज की पहेलियाँ खुलने लगी थीं, इसमें पैर पसारे उंच नीच धर्म अधर्म के मसले खुली आँख से दिखाई देने लगे थे ,उस वक़्त इसकी जड़ें कहाँ हैं कैसी हैं कुछ नहीं मालूम था लेकिन आपस में नफ़रत घृणा की...
is_india_fatwa-molvi
FARHEEN SULTANA Muslims get too excited whenever they hear words such as ‘Subhan Allah’ and ‘Masha Allah’ from politicians and actors. And start screaming ‘Oh look! He is a Muslim, he belongs to us’. Muslims keep running after politicians who make false promises but end up receiving another set of...
संसद के दोनों सदन स्मृति ईरानी के दुर्गा पर दिए गए बयान पर बिजी हैं. दुर्भाग्य है कि सोनीपत के मुरथल गांव में 10 महिलाओं के साथ जाट आरक्षण आंदोलन के दौरान हुई कथित गैंग रेप के मामले का जिक्र तक नहीं हुआ. बात शुरू करने से पहले स्पष्ट कर...
मूर्ख दिवस (एक अप्रैल) से शुरू होने वाले साल के 12 महीनों के लिए केंद्र सरकार का बजट जल्द पेश होने वाला है. यह वित्त मंत्री अरुण जेटली का तीसरा बजट है. इसके बाद 2019 के आम चुनाव के पहले अंतरिम बजट से पहले वह दो बजट और पेश करेंगे....
ravish kumar
मंगलवार को पत्रकारों के मार्च से लौट कर कब सो गया पता नहीं चला। कई टाइम ज़ोन पार कर आया था, इसलिए कई मुल्कों की रातों की नींद जमा हो गई थी। इसी को जेटलैग कहते हैं। अचानक नीचे से हुंकार भरी आवाजें आने लगी। इन आवाज़ों को सुनकर...
शेर-ए-ख़ुदा मौला अली रज़ियल्लाहु तआला अन्हु ने मस्जिद-ए-कूफ़ा के मेम्बर से दावा किया: "पूछ लो जो कुछ पूछना चाहते हो, इससे पहले के मैं तुम्हारे दरमियान से चला जाऊँ...।" एक शख़्स उठा और उसने सवाल किया: "या अली! कौन से जानवर बच्चे देते हैं, और कौन से जानवर अन्डे देते हैं...
साल 2013 के आख़िर में भारत के जाने-माने एक्टिविस्ट-संपादक तरुण तेजपाल अपनी एक सहयोगी के यौन उत्पीड़न के आरोप में गोवा में गिरफ़्तार हुए थे. बाद में ये सामने आया कि तहलका पत्रिका 40 करोड़ रुपए के घाटे में थी. तहलका में तरुण का भी मालिकाना हक़ था. इस पत्रिका...

ताज़ा समाचार