Tuesday, August 20, 2019
दामिनी, तुम किसी नेता की बेटी नहीं थी, अगर होती तो तुम्हारे गुनहगारों को लेकर बालिग-नाबालिग की बहस नहीं होती। फिर संसद में बैठे हमारे ये हुक्मरान एक हो जाते। तुम एक मामूली परिवार से हो, इसलिए तुम्हारी इज्जत और जान की कोई अहमियत नहीं। हमने मुल्क को एक महाभारत...
दैनिक भास्कर का अज्ञानी पत्रकार दौसा मे एक मुस्लिम के घर के सामने से गुजरता है और घर की छत पर हरे रंग का झण्डा देखकर कुटिल मुस्कान लिये हुए रुक जाता है । झण्डे मे बने चांद तारे देखते ही दिमाग मे खुराफात शुरु हो जाती है और...
पत्रकारिता के निचली सीढ़ी से लेकर ऊपरी पायदान तक बैठे लोगों से वास्ता रहा है। इन्हीं लोगों के बीच पिछले दस बारह साल गुज़रे हैं। मीडिया के नाम पर तक़रीबन रोज़ ही गाली खाने को मिलती हैं। दलाल, बिकाऊ, जाहिल, मूर्ख, संघी... मीडिया के खाते में रोज़ाना नई नई...
SP leadership pushing forward the agenda of the Union: the release platform
लखनऊ, रिहाई मंच ने गाजियाबाद के मुलायम सिंह यूथ ब्रिगेड के जिला अध्यक्ष अमन यादव द्वारा मुस्लिम युवक की पिटाई की घटना को सपा की साम्प्रदायिक जेहनियत का नया उदाहरण बताते हुए उसकी तत्काल गिरफ्तारी की मांग की है। रिहाई मंच नेता राजीव यादव ने बताया कि गाजियाबाद के विजय...
दैनिक भास्कर ने 17 दिसंबर की डेटलाइन से एक फड़कती हुई, सनसनीख़ेज़ खबर छापी। राजस्थान के दौसा शहर में एक घर की छत पर पाकिस्तानी झंडा। पत्रकार ने इस बारे में पुलिस कप्तान को बताया तो उन्होंने कह दिया गंभीर मामला है। बस बन गई खबर। अब आप तस्वीर देखिए।...
open letter to dainik bhaskar editor
सेवा में, कल्पेश याग्निक, अध्यक्ष , मुस्लिम विरोधी मंच. (नेशनल एडिटर, दैनिक भास्कर) श्रीमान, जैसा की कुछ लोगों ने मुझे बताया कि आप दैनिक भास्कर नाम के हिंदी अखबार के नेशनल एडिटर भी हैं तो मुझे आश्चर्य हुआ कि आप एक साथ दो काम कैसे कर लेते हैं. पहला काम ये कि अपने...
judgement-of-qutubuddin-aibak
कुतुबुद्दीन ऐबक के बारे में बचपन में एक कहानी पढी थी. वो शिकार खेल रहा था, तीर चलाया और जब शिकार के नज़दीक गया तो देखा कि एक किशोर उसके तीर से घायल गिरा पड़ा है. कुछ ही पल में उस घायल किशोर की मौत हो जाती है. पता करने...
सीरिया व इराक में जारी युद्ध और उसके वैश्विक प्रभाव को देखते हुए इस समय दुनिया भर से तीसरे विश्व युद्ध के शुरू होने की आशंका जताई जा रही है। संयुक्त राष्ट्र के महासचिव बान की मून और ईसाइयों के सर्वोच्च धर्मगुरु पोप फ्रांसिस समेत दुन्या भर के कई...
काशिफ युसूफ - राजनीति में हिस्सेदारी को लेकर मुस्लिम समाज में यदा कदा आवाज़ उठती रहती है लेकिन चुनाव के समय ये आवाज़ साम्प्रदायिकता और जातिवाद के आगे दम तोड़ देती है।  भारत के इतिहास में बहोत कम ऐसे चुनाव रहे हैं जिसमे मुसलमानो ने अपने विकास और हिस्सेदारी के...
हमने दुनिया का नक्शा बनते आैर बिगड़ते देखा है। ज्यादा वक्त नहीं गुजरा जब हिंदुस्तान के सीने पर भी परदेसी फौज के घोड़ों की टापें सुनार्इ देती थीं। हमने उन लोगों के किस्से भी किताबें में पढ़े हैं जिनकी तलवारें सिर्फ बेकसूर लोगों के खून से प्यास बुझाती थीं। मैं...

ताज़ा समाचार