Home पाठको के लेख

पाठको के लेख

सरकार के लिए पारदर्शिता नया पर्दा है। इस पर्दे का रंग तो दिखेगा मगर पीछे का खेल नहीं। चुनावी चंदे के लिए सरकार ने बांड ख़रीदने का नया कानून पेश किया है। यह जानते हुए कि मदहोश जनता कभी ख़्याल ही नहीं करेगी कि कोई पर्दे को पारदर्शिता कैसे...
modi987
रवीश कुमार फ्रांस में ब्रिटिश सरकार के लिए शहीद भारतीय सैनिकों को सलामी दी जा सकती है तो भीमा कोरेगांव के महार सैनिकों को क्यों नहीं? अप्रैल 2015, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी फ्रांस के लिल ( LILLE) स्थित NEUVE-CHAPELLE युद्ध स्मारक गए थे। वहां जाकर उन्होंने ब्रिटिश सेना की तरफ से फ्रांस...
rte
भारत के दोनों सदनों द्वारा पारित ऐसा कानून जो देश के 6 से 14 के सभी बच्चों को निःशुल्क,अनिवार्य और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देने की बात करता है उसके सात साल पूरे होने के बाद उपलब्धियों के बारे में सोचने को बैठें तो पता चलता है कि यह कानून अपना...
ravish583
18 साल के मतदाताओं के नाम एक पत्र सन 2000 में पैदा हुए युवाओं को अगले साल मतदान का अधिकार मिलने जा रहा है। आप जब पैदा हुए तब दुनिया भर में इक्कीसवीं सदी का स्वागत हो रहा था। आप जब मतदान देने लायक हो रहे हैं, तब इस सदी...
स्टेट बैंक आफ इंडिया ने अप्रैल से नवंबर 2017 के बीच उन खातों से 1771 करोड़ कमा लिया है,जिनमें न्यूनमत बैलेंस नहीं था। यह डेटा वित्त मंत्रालय का है। न्यूनतम बैलेंस मेट्रो में 5000 और शहरी शाखाओं के लिए 3000 रखा गया है। स्टैट बैंक आफ इंडिया ने जुलाई से...
माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, यह साझा पत्र इसलिए लिख रहा हूं ताकि आपमें से जिसे भी वक्त हो, भारत भर के युवाओं के साथ हो रही धोखाधड़ी का मसला उठाएं। केंद्र सरकार से लेकर राज्य सरकारों के कर्मचारी सेवा आयोग का ट्रैक रिकार्ड बताता है कि ये...
umar mukh
- उदय चे साम्राज्यवाद जिस समय भारत मे 23 मार्च 1931 को 3 बहादुर योद्धाओ को फांसी चढ़ा रहा था। उसी साल 16 सितम्बर 1931 को साम्राज्यवादी ताकते लीबिया में लीबिया के 73 साल के महान योद्धा उमर मुख्तयार को फांसी चढ़ा रही थी। ये उन सभी योद्धाओ को साम्राज्यवाद...
पुण्य प्रसून बाजपेयी केसरिया रंग देश के राजनीतिक सत्ता की हकीकत हो चुकी है। 19 राज्य केसरिया रंग में रंगे जा चुके हैं। पर इसी केसरिया रंग की प्रयोगशाला गुजरात में सात जिले मोरबी , गिर , सोमनाथ , अमरेली , नर्मादा , तापी , डांग , अरवल्ली  में तो...
maulana fb
देश के समर्पित स्वतंत्रता सेनानी, प्रखर शिक्षाविद, अग्रणी समाज सेवक, लेखक और बिहार की विभूतियों में एक मौलाना मज़हरुल हक़ भारतीय स्वतंत्रता संग्राम के ऐसे योद्धाओं में रहे हैं जिन्हें उनके स्मरणीय योगदान के बावज़ूद इतिहास और देश ने लगभग भुला दिया। सन 1866 में पटना जिले के बिहटा...
अखबार पढ़ना और टीवी पर खबरें देखना मेरी बहुत पुरानी आदत है, मगर अब मैं धीरे-धीरे इनसे दूर होता जा रहा हूं। शाम को घर आने के बाद जैसे ही टीवी चलाता हूं, वहां एक एंकर चीख-चीखकर मुझे समझाता रहता है कि इस मुल्क की असल समस्या तो बस...

फेसबुक पर लाइक करें

ज़रूर पढ़ें

ताज़ा समाचार

सप्ताह की प्रमुख खबरें