34939586
क्या विकास वाक़ई लापता हो गया है। विकास की गुमशुदगी के सवालों के बीच सरकार के दावों में कोई कमी नहीं आ रही है। क्या वाक़ई अर्थव्यवस्था तेज़ी सै बढ़ रही है? जी हां, जीडीपी तो बढ़ रही है। इसमें कोई शक नहीं है। सरकार के दावे भी सही...
3939834854
फ़ुटबॉल के इतिहास के महानतम खिलाड़ी माने जाने वाले पेले की तारीफ़ करते हुए हॉलैण्ड के पूर्व खिलाड़ी और कोच योहान क्रायफ़ ने एक बार कहा था: "पेले दुनिया के इकलौते फ़ुटबॉलर थे जिनका खेल किसी भी नियम-कानून और तर्क से परे निकल जाता था. वे खेलते नहीं थे,...
पुण्य प्रसून बाजपेयी चुनाव की चकाचौंध भरी रंगत 2014 के लोकसभा चुनाव की है। और क्या चुनाव के इस हंगामे के पीछे कारपोरेट का ही पैसा रहा। क्योंकि पहली बार एडीआर ने कारपोरेट फंडिग के जो तथ्य जुगाड़े हैं, उसके मुताबिक 2014 के आम चुनाव में राजनीतिक दलो को जितना...
-अख़लाक़ अहमद उस्मानी* मध्य एशिया में सबसे स्थिर और तेज़ गति से प्रगति करने वाले देश क़ज़ाख़स्तान में हर साल यूरोप और एशिया के मीडिया में छाए रहने वाले मुद्दों, विचारों, मत और प्रोपेगैंडा पर विमर्श होता है। इस बार यह आयोजन राजधानी अस्ताना की नई नवेली एक्सपो कांग्रेस इमारत...
वर्षों पुरानी परम्परा, सभ्यता और संस्कृति रही है जिससे लोग एक देश से दूसरे देश में आते जाते रहे है लेकिन पिछले वर्षों की घटनाओं ने झकझोर के रख दिया है पहले ऑस्ट्रेलिया में भारतीयों को नस्ल और रंग भेद के कारण मारा गया , उसके बाद अब अमेरिका...
देश को सबसे ज्यादा प्रधानमंत्री देने का श्रेय अगर किसी प्रदेश को है तो वो उत्तर प्रदेश को ही है जिसने अपने शहरो से प्रधानमंत्री जिताकर दिल्ली की सत्ता में बैठाए है।  लगभग 17 साल पहले जिस नेता ने अपने जादू से देश के हीरा व्यापारी राज्य गुजरात से...
उत्तर प्रदेश की बंपर जीत ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की साख पर मुहर लगाई है और साथ ही भारत में आर्थिक सुधार की दिशा में नोटबंदी समेत उठाए गए अतिरिक्त क़दमों की जनता ने तस्दीक़ कर दी है। उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव के दौरान विपक्ष का नोटबंदी को...
अभिमन्यु कोहाड़ हमारे प्रधानमंत्री जी नोटबंदी को लेकर सिर्फ वहां बयानबाजी कर रहे हैं जहाँ उनसे कोई सवाल पूछने वाला नहीं है और बयानबाजी भी बिना किसी तर्क की कर रहे हैं। वो संसद में उपस्थित रह कर नोटबंदी के ऊपर उठ रहे सवालों के जवाब नहीं दे रहे हैं...
नोटबंदी के कारण देश में कितनी काली कमाई छिपाई गई, कितना पैसा बैंकों के पास नहीं पहुँचा और कितनी चोरों ने जेल जाने के डर से करेंसी को नष्ट कर दिया, इसका ख़ुलासा तो नए साल में हो जाएगा लेकिन संसद के इस सत्र को जिस तरह विपक्ष ने...
अधिकतर देखा जाता हैं की इस्लाम धर्म को लेकर लोगो के बीच कई गलत फहमियां रहती हैं. ऐसा भी कहा जाता है की इस्लाम धर्म में महिलाओं के लिए आज़ादी नहीं हैं. इस्लाम धर्म में महिलाओं को कोई अधिकार नहीं दिया जाता. महिलाओं के नक़ाब या बुर्का पहनने पर...

ज़रूर पढ़ें

ताज़ा समाचार