कोहराम न्यूज़ के लिए विशेष इंटरव्यू सोशल मीडिया से लेकर मेन स्ट्रीम मीडिया में बहुत से ऐसे लेखक है जो शोषित, अल्पसंख्यकों, दलितों और महिलाओं के लिए आवाज़ उठा रहे हैं,  उन्हीं में से एक नाम है वसीम अकरम त्यागी. बहुत कम लोग जानते होंगे की वसीम अकरम त्यागी ने...
एक बार जब इकबाल देर से स्कूल पहुंचे तो मास्टर साब ने पूछा "इकबाल देरी से क्यों आये", खुद में खोये रहने वाले इकबाल ने झुके सर और नीची आँखों से जवाब दिया "इकबाल हमेशा देर से आता है". यह बात मासाब की समझ में आई या नही लेकिन...
प्रश्नकाल ------------------- प्रश्नों पर जब प्रतिबंध लगे तब दुगुने वेग से दागने चाहिये सवाल सवाल,सवाल और सवाल अनगिनत ,अनवरत प्रश्न ही प्रश्न पूछे जाने चाहिये तभी यह अघोषित आपातकाल प्रश्नकाल में बदल सकता है. पूछो,इसलिये कि पूछना जरूरी है. पूछो ,इसलिये कि सवाल मर ना जायें कहीं . जब सवालों की जिन्दगी का सवाल हो , ऐसे में चुप रहने का तो सवाल ही कैसे उठता...
saeem zahoor
यूं तो पाकिस्तान से लेकर हिन्दुस्तान तक सूफी म्यूजिक की धूम है एआर रहमान की शायद ही ऐसी कोई फिल्म हो जिसमे सूफी कलाम का टच ना हो. यह वो संगीत है जो दिल को छूता है और अन्दर तक पैठ बनता चला जाता है. अगर सूफी संगीत के...
सौ साला गिरोह  - भाग 1 तो ककहरा-ए-कहानी कुछ यूं बावस्ता हुई कि मुगल निथर गये थे और अंग्रेज छक गये थे और रुकते तो अंगरेजियत की नसल संकर होने का खतरा फजां में रवां-दवां था यूं कि जब तक अंग्रेज नसल सुधार रहे थे तब तक कोई गिला न...
पैग़म्बर मोहम्मद(PBUH) ने ड्राफ्ट किया था दुनिया का पहला संविधान सन 622 में मदीना में आने के बाद इस्लाम के आख़िरी पैग़म्बर मोहम्मद (PBUH) ने दुनिया का पहला संविधान ड्राफ्ट किया.इस संविधान की प्रस्तावना में अलग अलग जातियों से मिल कर बने पूरे देश में एकता की भावना को आगे...
Vivekananda was a fan of the core values of Islam
ग़ुलाम रसूल देहलवी स्वामी विवेकानंद उन बड़े भारतीय आध्यात्मिक गुरुओं में से एक हैं जो समाज सेवा, ईश्वर की एकता, वैश्विक भाईचारे और धार्मिक सद्भाव के समर्थक रहे। धार्मिक पूर्वाग्रह के वह सख्त विरोधी थे। उनका मानना था कि भगवान तक पहुंचने के रास्ते तंग, अवरुद्ध, बंद या किसी एक...
किसने बेचा उत्तराखंड ? कौन थे दलाल ? गुप्ता, अग्रवाल ? मुसलिये, कलाल ? जोशी,रतूड़ी, पाठक, पांड़े, नेगी,रावत, तिवारी, नौटियाल ...... किसने हमारे सर बिठाए ये चढ्ढा,ये अंबानी,ये मित्तल-जिंदल..मालामाल ? किस किस का नाम लूं मैं ? हर तीसरा तो जमीन का दलाल ! जब ये दलाल ही- बात करने लगें उत्तराखंड की ठेठ ! तो समझ लो यूं हीं नहीं...
There are people like questions
  लोग मिलते हैं सवालों की तरह जैसे बिन चाबी के तालों की तरह भूख में लम्हात को खाया गया सख्त रोटी के निवालों की तरह घर अगर घर ही रहें तो ठीक है क्यों बनाते हो शिवालों की तरह दीप सा किरदार तो पैदा करो लोग चाहेंगे उजालों की तरह ख़ुद को तुम इन्सान तो साबित करो याद...
बुल्ले शाह बाबा ने अपने पीर से कहा " मुझे ख़ुदा से मिला दो " पीर शाह इनायत से जवाब दिया " पहले खुद को भुला दो " पीर इनायत जाति से अराईं थे तो जन्म से सैय्यद बुल्ले शाह बाबा के परिवार को भला ये कैसे स्वीकार हो जाता...

ज़रूर पढ़ें

ताज़ा समाचार