Monday, September 23, 2019
566666055
अक्सर लोग बाजार जाते हैं और कई बड़े-बड़े सामान लेते हैं. बड़े-बड़े सामानों का तो लोग/ग्राहक भुगतान कर लेते हैं लेकिन कुछ ऐसे छोटे सामान होते हैं जिन पर ग्राहकों की नजर जाती है और ग्राहकों को वह चीजें पसंद तो आती है लेकिन वह उसका भुगतान नहीं करना...
supreme court
संविधान को अपनाने के बाद 28 जनवरी 1950 को भारत का सुप्रीम कोर्ट बनाया गया था. भारत के संविधान के अनुच्छेद 141 में कहा गया है कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा घोषित कानून भारत के क्षेत्र के भीतर सभी न्यायालयों पर बाध्यकारी होना है. नई दिल्ली में स्थित, यह भारत...
property
नयी-नयी संपत्ति खरीदने वाले सभी लोगों में एक बात सामान्य होती है, सभी लोग नयी प्रॉपर्टी को खरीदने के लिए उत्सुक रहते हैं. नयी प्रॉपर्टी को खरीदने के लिए सभी के मन में उत्सुकता बनी रहती है, उत्सुकता के साथ-साथ सभी लोगों में घबराहट भी होती है. कभी-कभी हम...
7888888888
आपको कानूनी नोटिस के बारे में जानना चाहिए क्योंकि कभी भी आपको लीगल नोटिस किसी से भी मिल सकता है और कभी भी आपको किसी भी व्यक्ति को लीगल नोटिस भेजने की जरुरत पड़ सकती है.इसलिए आज हम आपको बतायेंगे की लीगल नोटिस के प्रभाव क्या हैं और लीगल...
lawyer
अक्सर हमारी जिन्दगी में बहुत से ऐसे काम होते हैं जो कानूनी होते हैं और जिनके लिए हमें वकीलों को हायर करने की आवश्यकता होती है. बहुत से कानूनी मामले मुश्किल हो सकते हैं लेकिन एक वकील को हायर करने की तुलना में नहीं.हालांकि, एक वकील को भर्ती करना उतना...
hajj
राष्ट्रीय उपभोक्ता विवाद निवारण आयोग ने कहा है कि हज तीर्थयात्री हज समिति के उपभोक्ता नहीं हैं, जो भारत की हज समिति के रूप में हैं, जो तीर्थयात्रियों को हज पर ले जाने  के लिए व्यवस्था प्रदान करता है, बिना किसी लाभ के सेवाएं प्रदान करता है और केवल...
4930534504
हम नेटवर्क वाले समाज में रह रहे हैं जहां हम एक दूसरे के साथ मोबाइल और इंटरनेट के माध्यम से जुड़े हुए हैं. हम कंप्यूटर, मोबाइल का इस्तेमाल करके डेटा की बड़ी मात्रा उत्पन्न करते हैं जो बदले में इकाइयों की संख्या से संभाला जाता है. ऐसी संस्थाओं को...
204345
इन दिनों भारत में बाल यौन शोषण के लगातार कई मामले सामने आ रहे है. बाल यौन दुर्व्यवहार एक ऐसी समस्या है जो निर्दोष बच्चों के जीवन को कठिन और भयानक मोड़ दे देता है. बाल यौन दुर्व्यवहार को बाल छेड़छाड़ के रूप में भी जाना जाता है जिसे...
child labour
अधिक जनसंख्या और गरीबी भारत की दो सामाजिक संरचनाएं हैं जो 14 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को काम करने और अपनी जिंदगी कमाने के लिए मजबूर करती हैं. बाल श्रम वास्तविकता है जिसे हम अपने रोजमर्रा के जीवन में देखते हैं, लेकिन इसके परिणामों और प्रभावों को...
3546
वन्यजीव संरक्षण अधिनियम 1972 में भारत के संविधान के अनुच्छेद 252 के तहत पारित किया गया था. इस अधिनियम का उद्देश्य वन्यजीव संरक्षण के लिए एक समान ढांचा प्रदान करना है. अधिनियम वन्यजीवन की सुरक्षा के लिए दो गुना तंत्र को गोद लेता है: शिकार को रोकना संरक्षित क्षेत्रों का निर्माण इन...

ताज़ा समाचार