Vir Das Controversy: फिल्म निर्माता बोले देश का अपमान करे वो ‘वीर’ नहीं केवल ‘दास’ है, लोग देने लगे ऐसे जवाब

अमेरिका में हुए लाइव शो पर बॉलीवुड के मशहूर एक्टर और हास्य कलाकार वीर दास ने अपनी एक पोएम ‘टू इंडिया’ पढ़ी जिसके बाद से वह विवादों में फास्ट जा रहे है। लोग उनका जमकर विरोध कर रहे है। तो कुछ लोग उनकी इस कविता को पसनद कर उनकी सराहना कर रहे है। एक्ट्रेस कंगना रनौत ने तो वीर दास के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की। वहीं फिल्म निर्माता अशोक पंडित ने भी हाल ही में वीर दास पर गुस्सा जाहिर करते हुए ट्वीट किया है, जिसमें उन्होंने कहा कि देश का अपमान करने वाला केवल दास हो सकता है।

वीर दास को लेकर किया गया अशोक पंडित का यह ट्वीट सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। फिल्म निर्माता ने ट्वीट में लिखा, “विदेश में जाकर जो अपने देश का ‘अपमान’ करे वो ‘वीर’ नहीं हो सकता है, वो सिर्फ दास हो सकता है। विदेशी चकाचौंध का ‘दास।” इस ट्वीट के कारण फिल्म निर्माता अशोक पंडित खुद भी लोगों के निशाने पर आ गए। इस ट्वीट पर लोग अपनी कुछ इस तरह प्रतिक्रिया दे रहे है।

तन्मय नाम का एक व्यक्ति लिखता है, “पंडित जी मैंने कहा था कि कंगना जैसे निर्लज्ज वक्ताओं पर प्रतिबंध लगवाओ नहीं तो आगे कोई भी कुछ भी बोल जाएगा। देखा शुरू हो गया ना। शायद आप जैसों का मकसद पूरा हो रहा है, पर मेरा देश हर पल बेइज्जत हो रहा है।” सफदर अली नाम का व्यक्ति लिखता है, “सर सच सुनने की आदत नहीं है ना आपको क्या करें, अब तलवे चाटने में जो व्यस्त हैं।” एक ने फिल्म निर्माता पर तंज कसते हुए लिखा, “पंडित जी, अगर सच के आइने में अपना चेहरा देखकर शर्म आ रही हो तो अपने कर्म बदलिए, सोच बदलिए।” आदित्य सिंह नाम के यूजर ने लिखा, “वो तो सिर्फ माफी मांगकर हो सकता है।”

अपने शो के दौरान, वीर ने देश के कुछ महत्वपूर्ण मुद्दों पर बात की, जैसे कि कोरोनोवायरस महामारी के खिलाफ लड़ाई, बलात्कार के मामले, देश में हो रही हास्य कलाकारों के खिलाफ कार्रवाई और किसानों का विरो’ध। मैं उस भारत से आता हूं.. जहां दिन में औरतों की पूजा और रात में गैं’गरे’प होता है।

वीर दास की पढ़ी गई कविता के कुछ अंश

मैं उस भारत से आता हूं.. जहां की एक आबादी की उम्र 30 साल से छोटी है लेकिन फिर भी 75 साल के लीडर्स के 150 साल पुराने आइडियाज़ को सुनती है।
मैं उस भारत से आता हूं.. जहां वेजेटेरियन होने में हम गर्व महसूस करते हैं लेकिन हम उन किसानों को कुचल देते हैं, जो सब्ज़ियां उगाते हैं।
मैं उस भारत से आता हूं.. जहां बच्चे मास्क लगाते हैं और लीडर्स बिना मास्क लगाए गले मिलते हैं।

विज्ञापन