पद्म श्री लौटाने की बात पर भड़कीं कंगना रनौत, कहा- कोई बताए 1947 में कौन सी लड़ाई लड़ी गई

बीते कुछ समय से अभिनेत्री कंगना रनौत की मुश्किलें ( Kangana Ranaut controversy ) कम होने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। पिछले दिनों ‘भीख में मिली आजादी’ को लेकर दिए बयान पर काफी विवादों में आ गई हैं। इस बयान के बाद चारों तरफ कंगना रनौत की आलोचना की जा रही है। इस मामले को लेकर सोशल मीडिया पर कंगना की जमकर ट्रोलिंग हो रही है। लोग कंगना से पद्म श्री वापस लेने की मांग कर रहे हैं।

लोगों का कहना है कि कंगना ने स्वतंत्रता सेनानियों का अपमान किया है, वो पद्म श्री के काबिल नहीं है। ऐसे में, अब कंगना ने इसका जवाब दिया है, उन्होंने इंस्टाग्राम पर पोस्ट शेयर कर अपनी सफाई पेश की है और कहा है कि वह अपना पद्म श्री सम्मान लौटा देंगी अगर कोई उन्हें यह बताए कि 1947 में क्या हुआ था।

अभिनेत्री कंगना रनौत ने कहा – ‘मेरे एक बयान पर लोग मेरे पद्म श्री वापस लेने की बात कर रहे हैं, लेकिन क्या कोई मुझे बताएगा कि 1947 में आज़ादी की कौनसी लड़ाई लड़ी गई थी, अगर कोई मुझे ये बात समझा देगा तो मैं अपना पद्म श्री वापस कर दूंगी और माफ़ी मांग लूंगी।’ ‘मैंने रानी लक्ष्मी बाई जैसी शहीद पर बनी फीचर फिल्म में काम किया है। 1857 की पहली आजादी की लड़ाई पर काफी रिसर्च किया है। राष्ट्रवाद के साथ दक्षिणपंथ का भी उभार हुआ लेकिन यह अचानक खत्म कैसे हो गया? और गांधी ने भगत सिंह को क्यों मरने दिया…आखिर क्यों नेता बोस की हत्या हुई और उन्हें कभी गांधी जी का सपोर्ट नहीं मिला.आखिर क्यों बंटवारे की रेखा एक अंग्रेज के द्वारा खींची गई? आजादी की खुशियां मनाने के बजाय भारतीय एक दूसरे को मार रहे थे. मुझे ऐसे कुछ सवालों के जवाब चाहिए जिसके लिए मुझे मदद की जरूरत है।’

कंगना ने कहा कि वह अपने बयान पर नतीजे भुगतने को तैयार हैं। उन्होंने लिखा, ‘जहां तक 2014 में मिली आजादी की बात है तो मैं खास तौर पर कहा कि भले ही हमारे पास दिखाने के लिए आजादी थी लेकिन भारत की चेतना और विवेक को आजादी 2014 में मिली। एक मृत सभ्यता को जान मिली और उसने अपने पंख फैलाए और अब यह जोरदार तरीके से दहाड़ रही है। आज पहली बार लोग इंग्लिश नहीं बोलने या छोटे शहर से आने या मेड इन इंडिया प्रॉडक्ट बनाने के लिए हमारी बेइज्जती नहीं कर सकते। उस इंटरव्यू में सब कुछ साफ किया गया है लेकिन जो चोर हैं उनकी तो जलेगी कोई बुझा नहीं सकता। जय हिंद।’

 

विज्ञापन