दिलीप कुमार की जख्मी हो गई थीं उंगलियां शूट के दौरान, देखने वाले रह गए थे हैरान

बॉलीवुड के कई मशहूर एक्टर जोकि स्क्रीन पर बॉडी डबल का इस्तेमाल करना पसंद नहीं करते हैं उनमें से कुछ दिग्गज एक्टर्स के नाम हम आपको बताने जा रहे हैं अक्षय कुमार, अजय देवगन जैसे कई बॉलीवुड कलाकार बॉडी डबल का इस्तेमाल नहीं करते। बल्कि खुद ही मुश्किल से मुश्किल सीन को करने का प्रयास करते हैं। लीजेंड एक्टर दिलीप कुमार का नाम भी इसी लिस्ट में शामिल है दिलीप कुमार भी अपने कठिन से कठिन सीन को खुद किया करते थे और उनका मानना था अगर वह बॉडी डबल से काम करवाते हैं तो उनका इस सीन में क्या जरूरत है।

ऐसा ही एक वाक्या मशहूर फिल्म कोहिनूर से जुड़ा हुआ हम आपको बताने जा रहे हैं जिसमे इस फिल्म का एक गाना शूट होना था जो आज भी लोगों के दिलों में राज करता है गाने का नाम है, ‘मधुबन में राधिका नाचे रे’ वर्ष 1959 में जब फिल्म की शूटिंग की जा रही थी फिल्म के गाने ‘मधुबन में राधिका’ की शूटिंग चल रही थी तो मेकर्स ने सलाह दी कि गाने में दिलीप कुमार का बॉडी डबल चाहिए होगा। लेकिन दिलीप कुमार ने यह बात सुन ली और उन्होंने इस बात पर एतराज किया कहा कि वह अपने सीन खुद ही करेंगे फिर दिलीप कुमार को बताया गया कि यह गाना एक क्लासिकल सॉन्ग है।

इस गाने में एक जगह पर सितार बजाते हुए दिखाए जाएंगे जो कि उन्हें नहीं आता है। ऐसे में डायरेक्टर एसयू सनी ने फैसला लिया कि बॉडी डबल के बगैर काम नहीं चल पाएगा लेकिन दिलीप कुमार ने कहा वह खुद ही अपना सीन करेंगे ना कि किसी बॉडी डबल से कराएंगे निर्देशकों ने उनकी बात मान ली तय किया गया है दिलीप कुमार जी सितार बजाएंगे लेकिन क्लोज शार्ट में वादक की उंगलियों के शॉट डाल देंगे दिलीप कुमार ने जब यह सुना तो दोबारा आ गए और बोले कि जब ऐसा ही करना है तो मेरी क्या जरूरत है।

इस घटना का जिक्र खुद संगीतकार नौशाद अली ने अपने एक इंटरव्यू में किया, जब दीपिल साहब सीन को शूट करने पर तैयार नहीं हो रहे थे तो उन्होंने कहा उस्ताद हलीम जाफर खान ने सितार बजाया है, हम सीन में उनका क्लोजअप दे देंगे।’

तो दिलीप कुमार ने कहा कि ये क्लोजअप वह खुद देंगे। ऐसे में उन्होंने 2 से 3 महीने सितार को दिए और रियाज किया। फिर इस शॉट को पूरा करने में 3 महीने लगे। लेकिन जब दिलीप साहब ने इस सीन को शूट किया तो वह खाना खाने चले गए थे। फिर जब वह वापस ए तो उन्हें हाथ की उँगलियों में टेप बंधा हुआ था उनसे पूछा तो उन्होंने बताया की सितार बजाते वक्त उनकी उंगलियां खून से लथपथ हो गई थीं। ऐसे में कटी उंगलियों पर टेप लगाना पड़ा।

विज्ञापन