Saturday, December 4, 2021

वैज्ञानिकों को मिला 10 करोड़ साल पुराना केकड़ा

- Advertisement -

वैसे तो इस दुनिया में बहुत से जीव जंतु है। कुछ साधारंड तो कुछ बहुत ही अध्भुत होती है। हर अध्भुत जीव की अपनी अलग ही पहचान होती है। हम आपको एक ऐसे अभभूत जीव से मिलाने जा रहे है। जिसकी आयु सुन कर आप चूक जायगे। वैज्ञानिकों (scientists discovered immortal crab) को एक केकड़ा ऐसा मिला है, जिसकी उम्र 9.5 करोड़ साल से लेकर 10.5 करोड़ साल के आस-पास है। अब आप इस पर यकीन नहीं करोगे मगर ऐसा सच है। वैज्ञानिकों ने इस केकड़े को अमर केकड़ा (Immortal Crab) कहा है।

अब ऐसा नहीं है कि यह केकड़ा अभी तक जीवित है परन्तु इसका शरीर एक अंबर (Crab Closed in an Amber) के अंदर कैद है। वह इसका शरीर बिल्कुल सुरक्षित है। वैज्ञानिकों के लिए इस केकड़े का शरीर मिलना काफी उत्साहित करने वाला है, क्योंकि इससे वे डिटेल में केकड़े का अध्ययन कर सकते हैं और समुद्री जीवों पर शोध करके निष्कर्ष निकाल सकते हैं। समुद्र के अंदर (Researchers discovered old crab) की दुनिया में इतने रहस्य छिपे हुए हैं कि वैज्ञानिकों को इसमें हमेशा ही गहरी दिलचस्पी रहती है।

सबसे बड़ी खासियत समुद्र की ये होती है, कि यहां सैकड़ों, हजारों, लाखों और करोड़ों साल पुरानी चीज़ें कई बार सुरक्षित मिल जाती हैं। इस बार वैज्ञानिकों के हाथ एक ऐसा केकड़ा (10 Crore Years Old Crab) लगा है, जिसका शरीर करोड़ों साल पहले अंबर (Crab Closed in an Amber) में कैद हो गया था। वैज्ञानिक इस केकड़े को अमर केकड़ा कह रहे हैं.

ये केकड़ा क्रेटाशियस काल का है। इससे अंदाज़ा लगाया जा रहा है कि केकड़े की उम्र साढ़े नौ से दस करोड़ साल हो सकती है। साइंस एडवांसेज़ में पब्लिश स्टडी के मुताबिक इस अमर केकड़े को नाम दिया गया है – क्रेटस्पारा अथानाट (Cretaspara Athanata). क्रेट का मतलब शेल हाता है और अस्पारा बादलों और पानी के देवता का नाम है, जबकि अथानाटा का मतलब अमर होता है। केकड़ा पूरी तरह से जलीय जीव है। हॉवर्ड यूनिवर्सिटी के पोस्टडॉक्टोरल रिसर्चर जेवियर लूक ने बताया कि केकड़े को रेयर कहने की वजह ये है कि अंबर में अब तक शोधकर्ताओं को कभी भी कोई जलीय जीव नहीं मिला है।

सांप, पक्षी, बिच्छू और कीड़े-मकोड़े इसमें कैद मिल चुके हैं। पहली बार केकड़े के सुरक्षित शरीर का इसमें मिलना बड़ी उपलब्धि है। जेवियर लूक के मुताबिक इस अनोखे केकड़े की लंबाई सिर्फ 2 मिलीमीटर है और इसका शरीर एकदम सुरक्षित है. न तो केकड़े के शरीर का कोई भी हिस्सा गायब है, न ही ये टूटा-फूटा है। वैज्ञानिकों को लगता है कि ये अमर केकड़ा समुद्री और साफ पानी के केकड़ों के बीच की कड़ी है। वैज्ञानिकों की टीम ने इसका एक्स-रे किया, जिसे माइक्रो -सीटी कहते हैं। 3D मॉडल में बने केकड़े के शरीर का अध्ययन करने के बाद पता चला कि इसके पैर और कैरापेस असली केकड़ों की तरह ही हैं.

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles