Friday, October 22, 2021

 

 

 

एक पैर नहीं है लेकिन परिवार के लिए रोज़ाना 40 किलोमीटर सफर तय करता है वो भी साइकिल पर

- Advertisement -
- Advertisement -

एक पिता जिस कठिन परिश्रम के साथ काम करता है ताकि उसे अच्छा वेतन मिले। जिससे कि वे अपने परिवार का अच्छे से पालन पोषण कर सके‌ और अपने परिवार के लिए घर का मुखिया किसी भी कठिन काम को करने से पहले सोचता नहीं है फिर चाहे वह तपती धूप में मजदूरी कर रहा मजदूर हो या किसी शो पर काम कर रहा है स्टंटमैन या फिर फायर फाइटर हो या अपराधियों का पीछा करता हुआ एक पुलिस स्पेक्टर।

यह किसी भी रूप में हो सकते हैं इसी का एक रूप है अलीगढ़ के निवासी नरेश जोकि अपने परिवार के अच्छे पालन पोषण के लिए भूल चुके हैं कि उनका एक पैर नहीं रहा है।

2010 में एक रेल दुर्घटना के कारण उन्होंने अपना पैर खो दिया था यही वजह है कि नरेश एक पैर से विकलांग हो चुके हैं परंतु उन्होंने अपनी इस कमी को अपनी प्रेरणा बनाकर रोजाना 40 किलोमीटर का सफर तय करते हैं।

नरेश हार्डवेयर फैक्ट्री में काम करते हैं जोकि उनके घर से 40 किलोमीटर दूर है। अपने घर के अच्छे भविष्य के लिए नरेश रोजाना साइकिल से 40 किलोमीटर का आना जाना करते हैं अपनी साइकिल के साथ वह एक डंडा भी रखते हैं जिससे कि साइकिल के दूसरे पेडल पर डंडा रखकर साइकिल को आगे बढ़ा सके।

डंडे के सहारे साइकिल चलाकर काम पर जाना। यह अभी तक फिल्मों में देखा था मगर अब यह हकीकत में देख रहे हैं नरेश की इस कहानी से हमें अपने जीवन में कभी हार ना मानने की प्रेरणा मिलती है जिंदगी में जितनी भी परेशानियां हो उनका डटकर सामना करना चाहिए।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles